उन्नाव गैंगरेप पीड़िता के परिजनों से मिलने पहुंची प्रियंका गांधी, कहा- एक साल से परिवार पर हो रहा जुल्म, सुना है दोषियों का है बीजेपी कनेक्शन

priyanka gandhi

चैतन्य भारत न्यूज

उन्नाव. कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी वाड्रा लखनऊ के अपने सारे निर्धारित कार्यक्रम को अचानक रद्द कर उन्नाव की रेप पीड़िता के परिवार से मिलने पहुंची। इस दौरान उनके साथ कांग्रेस के प्रदेश अध्यक्ष अजय कुमार लल्लू भी थे। प्रियंका ने पीड़िता के परिजनों के साथ मुलाकात कर अपनी संवेदनाएं प्रकट की और परिवार को न्याय दिलाने व हर संभव मदद का आश्वासन दिया।


उन्नावः जमानत पर छूटे दुष्कर्म आरोपितों ने पीड़िता पर पेट्रोल डालकर जिंदा जलाया, हालत गंभीर

योगी सरकार पर उठाए सवाल

बता दें शुक्रवार देर रात उन्नाव की रेप पीड़िता दिल्ली के सफदरजंग अस्पताल में मौत हो गई। रात 11:40 बजे उसे कार्डियक अरेस्ट हुआ था। ऐसे में प्रियंका अपने सभी कार्यक्रमों को रद्द कर पीड़िता के परिवार के परिजनों से मुलाकात करने चली गईं। प्रियंका ने कहा कि, ‘पीड़िता के पूरे परिवार को पिछले एक साल से लगातार प्रताड़ित किया जा रहा है। मुझे सुनने को मिला है कि पीड़िता के परिवार की महिलाओं को धमकाया गया। दोषियों के भाजपा से कनेक्शन हैं। इसलिए वे अभी तक बचे हुए थे। राज्य में अपराधियों के बीच कोई डर नहीं है। मुख्यमंत्री कह रहे हैं कि राज्य में अपराधियों के लिए कोई जगह नहीं है, लेकिन उन्होंने राज्य को क्या बना दिया। मुझे लगता है कि यहां महिलाओं के लिए कोई जगह नहीं है। इस पर योगी सरकार की जवाबदेही तो बनती है। प्रशासन को बताना पड़ेगा कि ऐसा क्यों हो रहा है।’

उन्नाव कांड: पीड़िता के दो अंदरूनी अंग हुए डैमेज, हालत गंभीर, पिता बोले- जिसे बेटा समझकर घर आने दिया, उसी ने किया बेटी का रेप

कांग्रेस लड़ेगी पीड़िता के परिजनों की लड़ाई

प्रियंका ने पीड़िता के परिजनों को आश्वासन दिया है कि कांग्रेस पार्टी उनकी लड़ाई लड़ेगी। इतना ही नहीं बल्कि उनके करीबी सूत्रों से पता चला है कि, प्रियंका ने पीड़ित परिवार को खुद अपना मोबाइल नंबर दिया है, जिससे वह उनसे सीधे संपर्क कर सकें। प्रियंका गांधी ने कहा कि, ‘सरकार का कर्तव्य होता है कि वह कानून-व्यवस्था को कायम रखे। उन्नाव में पिछले 11 महीनों में 90 बलात्कार हुए हैं। सरकार को फैसला करना पड़ेगा कि वह महिलाओं के पक्ष में है या फिर अपराधियों के पक्ष में?’

यूपी में रोज महिलाओं पर अत्याचार हो रहा

इससे पहले भी प्रियंका ने उत्तर प्रदेश में हो रही घटनाओं को लेकर योगी सरकार पर सवाल उठाए थे। उन्होंने कहा था कि, ‘यूपी में रोज महिलाओं पर अत्याचार हो रहा है, सरकार क्या कर रही है? उन्नाव की पिछली घटना को ध्यान में रखते हुए सरकार को तत्काल पीड़िता को सुरक्षा क्यों नहीं दी गई? जिस अधिकारी ने उसका एफआईआर दर्ज करने से मना किया उस पर क्या कार्रवाई हुई?’

जिंदगी से जंग हार गई उन्नाव रेप पीड़िता, आखिरी वक्त तक कहती रही- मैं जीना चाहती हूं, दोषियों को छोड़ना नहीं

पिछले दिसंबर दुष्कर्म, इस दिसंबर मौत

बता दें दिसंबर 2018 में पीड़िता के साथ सामूहिक दुष्कर्म हुआ था। इस मामले की एफआईआर मार्च 2019 में दर्ज की गई थी। गुरुवार सुबह पीड़िता उन्नाव से रायबरेली जाने के लिए घर से निकली थी। इस दौरान रास्ते में मुख्य आरोपित शुभम त्रिवेदी और उसके चार साथी हथियारों के बल पर घसीट कर उसे पास के खेत में ले गए और वहां उसके साथ मारपीट की, साथ ही चाकुओं से भी हमला किया। इतना ही नहीं फिर दरिंदो ने पीड़िता पर पेट्रोल छिड़ककर आग लगा दी। इस घटना में वह 95 प्रतिशत जल गई थी। लेकिन पीड़िता ने आखिरी वक्त तक भी हार नहीं मानी थी। वह जब तक होश में थी तब तक कह रहे थी कि- ‘मुझे जलाने वालों को छोड़ना मत।’ डॉक्टरों ने उसे बचाने की पूरी कोशिश की लेकिन शुक्रवार रात 11:40 आखिर वह अपनी जिंदगी से जंग हार गई।

ये भी पढ़े…

उन्नाव और हैदराबाद के बाद बुलंदशहर में नाबालिग को बंधक बनाकर किया सामूहिक दुष्कर्म, वीडियो किया वायरल

उन्नाव रेप पीड़िता की मौत पर सीएम योगी ने जताया शोक, कहा- फास्ट ट्रैक कोर्ट से दोषियों को मिलेगी सख्त सजा

उन्नाव रेप : पीड़िता के पिता की मांग- दरिंदों को हैदराबाद की तरह दौड़ाकर मारो, भाई ने कहा- जलाने लायक नहीं बचा शव 

Related posts