8 देशों के मुस्लिम संगठनों के साथ संपर्क में था प्रोफेसर शाहिद, मोहम्मद साद था का करीबी

proffesor shahid

 चैतन्य भारत न्यूज 

प्रयागराज. विदेशी जमातियों को बिना पुलिस से इजाजत लिए शरण देने वाले इलाहाबाद विश्वविद्यालय (इविवि) के प्रोफेसर मो. शाहिद को लेकर एक खुलासा हुआ है। जेल भेजा गया प्रोफेसर शाहिद आठ देशों के मुस्लिम संगठनों के साथ संपर्क में था। जब खुफिया एजेंसियों ने उसकी कॉल डिटेल्स खंगाली तो वह भी चौंक गए।

जानकारी के मुताबिक, शाहिद की अक्सर ही तब्लीगी जमाती के प्रमुख मो. साद से मोबाइल पर बातचीत होती रहती थी। खुफिया एजेंसियों का कहना है कि शाहिद मो. साद के करीबियों में से एक था। उसने दिल्ली के निजामुद्दीन मरकज के आदेश पर इंडोनेशिया के सात और थाइलैंड के नौ जमातियों के प्रयागराज स्थित मस्जिद में रुकने की गोपनीय व्यवस्था कराई थी।

बता दें शाहिद और 16 विदेशी जमाती समेत 30 लोगों का मंगलवार को मेडिकल चेकअप किया गया। मेडिकल चेकअप के बाद इन सभी आरोपितों को खुल्दाबाद थाने में मजिस्ट्रेट के सामने पेश किया गया था। जहां से कड़ी सुरक्षा के बीच प्रोफेसर समेत सभी 30 आरोपितों को जेल भेज दिया गया। इन पर विदेशी अधिनियम का उल्लंघन करने, साजिश में शामिल होने और मदद करने का आरोप है। गिरफ्तार किए गए आरोपितों में इंडोनेशिया के सात, थाईलैंड के नौ, केरल व पश्चिम बंगाल के एक-एक व्यक्ति शामिल हैं।

खुफिया एजेंसियों ने शाहिद की इलाहाबाद केंद्रीय विश्वविद्यालय के राजनीति विज्ञान विभाग में साल 1988 में हुई नियुक्ति से लेकर अब तक की पूरी कुंडली खंगाल ली है। एजेंसी ने उसकी पारिवारिक पृष्ठभूमि से लेकर करीबियों तक की भी फाइल तैयार कर ली है। फिलहाल उसके परिवार के पांच सदस्यों और चार छात्रों समेत उसके 28 करीबियों और उनके संपर्कों को खंगाला जा रहा है। साथ ही खुफिया एजेंसी ने यह ब्योरा भी जुटा लिया गया है कि प्रोफेसर शाहिद इथोपिया, सोमालिया, इंडोनेशिया, बांग्लादेश, उज्बेकिस्तान व टर्की समेत कई देशों की यात्रा कर चुका हैै और वहां मुस्लिम संगठनों के कार्यक्रमों में हिस्सा ले चुका हैै।

इसकी जांच के लिए भारतीय दूतावासों सहित कई और भी एजेंसियों की मदद ली जा रही है। इथोपिया की राजधानी अदीस अबाबा के मुस्लिम संगठनों के बारे में खासतौर से जानकारी जुताई जा रही है। बता दें शाहिद अदीस अबाबा के मुस्लिम संगठनों के दो जलसों में एक-एक सप्ताह के लिए जा चूका है। आखिरी बार वो पिछले साल दिसंबर में 8 दिन के लिए अदीस अबाबा गया था।


ये भी पढ़े…

विदेशी तब्लीगी जमातियों का सहारनपुर था हॉट स्पॉट, मुजफ्फरनगर और शामली से भी मिले विदेशी जमाती

गाजियाबाद: क्वारंटाइन में महिला नर्सों के सामने अश्लील हरकतें कर रहे तबलीगी जमाती, पुलिस ने लिया हिरासत में

ED के शिकंजे में मौलाना साद, बैंक खाते में विदेश से आई मोटी रकम

Related posts