कोरोना की जांच करने पहुंची टीम के पीछे लाठी-डंडे लेकर पहुंचीं महिलाएं, बनाया बंधक

चैतन्य भारत न्यूज

बिहार के कैमूर जिले के एक गांव का वीडियो सोशल मीडिया पर तेजी से वायरल हो रहा है। दरअसल, इस गांव में कोरोना की टीम जांच के लिए पहुंची थी। जिसके बाद गांववालों ने टीम को बंधक बनाकर महिलाओं द्वारा अभद्र व्यवहार करने की बात सामने आई है। जांच टीम का कहना है कि, यहां के लोग कोरोना की टेस्टिंग का विरोध कर रहे हैं। वहीं गांव वालों ने आक्रोश का कारण किडनी निकालने की अफवाह बताया है।

यह मामला शेरपुर से सामने आया है। यहां गांववालों की कोरोना जांच के लिए टीम पहुंची थी। जानकारी के मुताबिक, टीम ने कुछ लड़कों को पकड़कर उनके परिवारवालों को बिना सूचना दिए कोरोना टेस्ट कर लिया। जैसे ही इस बात की भनक परिजनों को लगी तो गांव की महिलाएं झुंड बनाकर जांच करने वाली टीम के पास पहुंच गई और हंगामा करने लगीं। कुछ महिलाओं ने तो टीम को मारने के लिए डंडा भी उठा लिया। स्वास्थ्य कर्मियों ने वहां के लोगों को समझाने की कोशिश की। बाद में बिना जांच किए ही पुलिस सुरक्षा में वापस आना पड़ा।

दरअसल, गांव में किडनी निकालने की अफवाह फैली हुई थी और इसी बीच मेडिकल टीम कोरोना की जांच करने पहुंच गई। इस कारण लोग आक्रोशित हो गए। कैमूर सिविल सर्जन डॉक्टर अरुण कुमार तिवारी बताते हैं चैनपुर प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र के अंतर्गत शेरपुर गांव है। जहां कोरोना वायरस जांच के लिए मेडिकल टीम गई थी। जहां गांव वालों ने टीम का विरोध कर हंगामा किया। टीम के साथ अभद्र व्यवहार भी किया गया। गाड़ी और मेडिकल टीम को बंधक बनाकर रखा गया था।
पुलिस की पहल पर मेडिकल टीम को वहां से वापस लाया गया।

Related posts