CAG रिपोर्ट में मोदी सरकार के राफेल सौदे को पूर्व की यूपीए सरकार से सस्ता बताया

चैतन्य भारत न्यूज।

नई दिल्ली। राफेल डील मामले को लेकर बुधवार को राज्यसभा में कैग रिपोर्ट पेश हुई। इस रिपोर्ट के अनुसार एनडीए सरकार के राफेल सौदे को पूर्व की यूपीए सरकार से सस्ता बताया है। हालांकि, रिपोर्ट में मोदी सरकार के उस दावे को भी खारिज कर दिया गया है जिसमें कहा जा रहा था कि राफेल विमान पिछली डील से 9 फीसदी सस्ती है।

 राज्यसभा में पेश हुई कैग रिपोर्ट की कुछ खास बातें…

  • एनडीए सरकार की राफेल डील पिछली सरकार से 2.86 फीसदी सस्ती।
  • मोदी सरकार ने जो 9 फीसदी सस्ती डील का दावा किया था, वह CAG रिपोर्ट से खारिज।
  • कैग रिपोर्ट में राफेल विमान के दाम को नहीं बताया।
  • रिपोर्ट का दावा इस डील (36 विमान) में पिछली डील (126 विमान) का करीब 17.08 फीसदी पैसा बचा है।
  • रक्षा मंत्रालय को इस डील को फाइनल करने में मुश्किलों का सामना करना पड़ा।
  • शुरुआती 18 राफेल विमान पिछली डील के मुकाबले 5 महीने पहले ही भारत में आ जाएंगे।

लोकसभा में हंगामा

आज भी लोकसभा में राफेल मामले को लेकर जोरदार हंगामा हुआ। कांग्रेस सदन के बाहर और अंदर दोनों जगह राफेल को लेकर प्रदर्शन कर रही है। राहुल गांधी के नेतृत्व में कांग्रेस सांसद चौकीदार चोर है के नारे लिखकर प्रदर्शन कर रहे हैं।

वित्त मंत्री अरुण जेटली ने किया ट्वीट

कैग की रिपोर्ट पेश होने के बाद वित्त मंत्री अरुण जेटली ने ट्वीट कर कांग्रेस पर हमला बोला है उन्होंने कहा ”ऐसा नहीं हो सकता कि सुप्रीम कोर्ट गलत है, कैग गलत है और केवल वंशवाद सही है। लोकतंत्र उन लोगों को कैसे दंडित करता है जो लगातार राष्ट्र से झूठ बोलते हैं? कैग रिपोर्ट से ‘महाझूठबंधन’ के झूठ का खुलासा हो गया।”

Related posts