विजयदशमी पर वायुसेना की ताकत में हुआ इजाफा, भारत को मिला पहला राफेल लड़ाकू विमान, जानें इसकी खासियत

चैतन्य भारत न्यूज

नई दिल्ली. दशहरे और वायुसेना दिवस के अवसर पर भारत को आज फ्रांस से राफेल लड़ाकू विमान मिल गया। इस विमान को रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने एक आधिकारिक कार्यक्रम में फ्रांस से रिसीव किया। बता दें फ्रांस से भारत को कुल 36 राफेल लड़ाकू विमान मिलेंगे। इनमें से पहली किश्त में भारत को चार राफेल विमान मिले हैं। राफेल मिलने के बाद राजनाथ सिंह ने फ्रांसीसी पोर्ट बोर्डेक्स पर उनकी शस्त्र पूजा की। गौरतलब है कि, दशहरा के दिन देश के विभिन्न हिस्सों में शस्त्र पूजा की जाती है। इसी परंपरा को राजनाथ सिंह भी कई saalओं से निभाते आ रहे हैं।

राफेल विमान क्या है?

जानकारी के मुताबिक, फ्रांसीसी कंपनी डैसॉल्ट एविएशन द्वारा निर्मित राफेल दो इंजन वाला मध्यम मल्टी-रोल कॉम्बैट एयरक्राफ्ट (एमएमआरसीए) है। राफेल लड़ाकू युद्ध में अहम रोल निभाने में सक्षम हैं। राफेल वायु वर्चस्व, हवाई हमला, जमीनी समर्थन, भारी हमला और परमाणु प्रतिरोध आदि सब कर सकता है। भारत को जो राफेल मिले हैं, उनमें कुछ बदलाव किए गए हैं जो इस प्रकार हैं-

  • भारत को मिले राफेल विमानों में इजरायल के हेलमेट माउंटेड डिस्प्ले लगवाए गए हैं।
  • इन राफेल विमानों में रेडार वॉर्निंग रिसीवर्स भी लगे हैं।
  • फ्लाइट का डेटा मेंटन करने के लिए राफेल में डेटा रिकॉर्डिंग सिस्टम भी लगाए गए हैं। इसके जरिए 10 घंटे का डेटा रिकॉर्ड किया जा सकता है।
  • भारत को मिले राफेल विमान में लो बैंड के जैमर्स लगाए गए हैं।
  • इसके ट्रैकिंग सिस्टम और इंफ्रा रेड सर्च को भी मोडिफाई किया गया है।

ये हैं राफेल विमान की खासियतें-

  • राफेल विमान महज एक मिनट के अंदर ही 60 हजार फीट की ऊंचाई तक उड़ान भर सकता है।
  • राफेल की ईंधन क्षमता करीब 17 हजार किलोग्राम है।
  • इस विमान की मारक क्षमता 3700 किलोमीटर तक है।
  • यह विमान एक बार में 24,500 किलो तक का वजन ले जा सकता है।
  • राफेल विमान करीब 60 घंटे की अतिरिक्त उड़ान भी भर सकता है।
  • इसकी गति 2,223 किलोमीटर प्रति घंटा है।
  • यह 300 किलोमीटर की रेंज से हवा से जमीन पर हमला करने में भी सक्षम है।
  • इस विमान में ऑक्सीजन जनरेशन सिस्टम लगा है, जिससे इसमें लिक्विड ऑक्सीजन भरने की जरूरत नहीं पड़ती है।
  • राफेल विमान 14 हार्ड पॉइंट के जरिए भारी हथियार भी गिराने की क्षमता रखता है।
  • यह विमान सभी मौसम में एक साथ कई काम कर सकता है। इसलिए राफेल को मल्टीरोल फाइटर एयरक्राफ्ट के नाम से भी जाना जाता है।
  • राफेल एक ऐसा विमान है, जिसे किसी भी तरह के मिशन पर भेजा जा सकता है।

क्या है राफेल की लागत

सूत्रों के मुताबिक, राफेल सौदा 7.8 करोड़ यूरो यानी करीब 58,000 करोड़ रुपए का है। लोकसभा चुनाव 2019 से पहले राफेल सौदे पर भारत में खूब सियासत भी देखने को मिली थी। विपक्ष लगातार मोदी सरकार पर इसे लेकर निशाना साध रही थी। कांग्रेस का दावा है कि, यूपीए सरकार के दौरान एक राफेल फाइटर जेट की कीमत 600 करोड़ रुपए तय की गई थी। लेकिन मोदी सरकार के कार्यकाल में एक राफेल करीब 1600 करोड़ रुपए का पड़ेगा।

ये भी पढ़े…

यहां के लोगों के लिए मुसीबत बना राफेल, परेशान होकर गांव छोड़ने को हुए मजबूर

राफेल के बाद अमेरिका से 24 MH 60R मल्टी मिशन हेलिकॉप्टर खरीदेगा भारत, जानें क्या हैं इसकी खासियतें

राफेल मामले में लीक दस्तावेजों पर फैसला सुरक्षित, पहले केंद्र की आपत्तियों पर होगा विचारः सुप्रीम कोर्ट

Related posts