उद्योगपति राहुल बजाज ने कहा- ‘देश में डर का माहौल, लोग आलोचना करने से डरते हैं…’ अमित शाह ने दिया यह जवाब

rahul bajaj amit shah

चैतन्य भारत न्यूज

नई दिल्ली. बजाज ग्रुप के चेयरमैन राहुल बजाज ने दिल्ली में शनिवार को आयोजित एक कार्यक्रम के दौरान कहा कि, ‘देश में एक डर का माहौल है। देश में सरकार की आलोचना करने की किसी में हिम्मत नहीं है।’ इकोनॉमिक टाइम्स द्वारा आयोजित इस कार्यक्रम में गृह मंत्री अमित शाह, रेल मंत्री पीयूष गोयल और वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण भी शामिल हुए थे। इस दौरान उन्होंने उद्योगपतियों के कई सवालों के जवाब दिए।


देश में डर का माहौल

राहुल बजाज ने कहा कि, ‘हमारे कोई भी उद्योगपति दोस्त इस बारे में बात नहीं करेंगे, लेकिन मैं आज यहां खुले तौर पर कहना चाहता हूं कि जब यूपीए-2 की सरकार थी, तब हम लोग किसी की भी आलोचना कर सकते थे। ऐसा ही माहौल फिर से बनाना होगा। आपकी सरकार अच्छा कर रही है, उसके बाद भी हम आपकी खुले तौर पर आलोचना नहीं कर सकते हैं। हमें ये विश्वास नहीं कि आप तारीफ करेंगे। हो सकता है कि मैं गलत हूं, पर सभी यही महसूस कर रहे हैं।’

हमें किसी भी विरोध का कोई डर नहीं : शाह

बजाज की इन बातों का शाह ने जवाब देते हुए कहा कि, ‘फिर भी आप जो कह रहे हैं कि एक माहौल बना है, हमें भी माहौल को सुधारने का प्रयास करना पड़ेगा। लेकिन मैं इतना जरूर कहना चाहता हूं कि किसी को डरने की जरूरत नहीं है। न कोई डराना चाहता है… न कुछ ऐसा करना है जिसके खिलाफ बोले तो सरकार को चिंता है। काफी पारदर्शी तरीके से ये सरकार चल रही है, और हमें किसी भी प्रकार की विरोध का कोई डर नहीं है। कोई विरोध करेगा भी तो उसके मेरिट्स देख कर हम अपने आप को बेहतर करने का प्रयास करेंगे।’

लिंचिंग पर शाह का जवाब

बजाज ने इस कार्यक्रम में लिंचिग का जिक्र करते हुए कहा कि, ‘लिंचिंग, असहिष्णुता की हवा बनाती है। हम डरते हैं… कुछ चीजों को हम बोलना नहीं चाहते हैं। लेकिन अभी तक इस केस में किसी को कोई सजा नहीं मिली है।’ इसका जवाब देते हुए शाह ने कहा कि, ‘लिंचिंग कोई नई चीज नहीं है और ये कहना गलत है कि किसी को अभी इस मामले में सजा नहीं मिली है। लिंचिंग पहले भी होती थी और आज भी होती है। शायद आज पहले से कम होता है। पर ये भी ठीक नहीं है कि किसी को सजा नहीं मिली है। लिंचिंग वाले बहुत सारे केस चले और समाप्त भी हो गए। सजा भी हुई है, लेकिन मीडिया में छपते नहीं हैं।’

प्रज्ञा ठाकुर और आर्टिकल-370 पर ये कहा

कार्यक्रम में जब भोपाल से सांसद प्रज्ञा सिंह ठाकुर द्वारा दिए बयान के बारे में पूछा गया तो अमित शाह ने कहा कि, ‘न ही सरकार और नही भाजपा प्रज्ञा के बयान का समर्थन करती हैं। हमने इसकी निंदा की है।’ इसके अलावा जम्मू-कश्मीर से आर्टिकल- 370 हटने के बाद के हालात पर शाह ने कहा, ‘मैं गृह मंत्री के तौर पर उद्योगपतियों से अपील करता हूं कि वे कश्मीर जाएं और वहां के हालात देखें।’ उन्होंने आगे कहा कि, ‘जहां तक इंटरनेट से प्रतिबंध हटाने की बात है तो यह पूरी तरह कानून और व्यवस्था का मामला है। इस बारे में स्थानीय प्रशासन को फैसला लेना है। कश्मीर में अब सिर्फ 630 लोग ही जेल में हैं। इनमें सिर्फ 112 ही राजनीतिक बंदी हैं।’

ये भी पढ़े…

ऐसा रहा अमित शाह का शेयर ब्रोकर से राजनीति के शहंशाह बनने का सफर, जेल भी जा चुके हैं

महबूबा मुफ्ती की बेटी ने अमित शाह को लिखा पत्र, कहा- हमारे साथ जानवरों जैसा बर्ताव किया जा रहा

पीएम मोदी और अमित शाह को इस सिंगर ने कहे आपत्तिजनक शब्द तो ट्वीटर ने दी ऐसी सजा

 

Related posts