बीसीसीआई ने द्रविड़ को भेजा नोटिस, कहा- नौकरी से छुट्टी लेने का मतलब यह नहीं है कि आपके पास पोस्‍ट नहीं है

rahul dravid,bcci,

चैतन्य भारत न्यूज

भारतीय टीम के पूर्व कप्तान राहुल द्रविड़ को भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड (बीसीसीआई) के इथिक्स ऑफिसर रिटायर्ड डीके जैन ने हितों के टकराव को लेकर नोटिस भेजा है। लेकिन अब उन्हें इसके लिए आलोचना का सामना करना पड़ रहा है। पूर्व कप्तान सौरभ गांगुली और गेंदबाज हरभजन सिंह ने इस फैसले की आलोचना की। इसके बाद जस्टिस जैन ने कहा कि वे बीसीसीआई के संविधान में जो नियम दिए गए हैं उनका ही पालन कर रहे हैं।

बता दें द्रविड़ को नोटिस मध्य प्रदेश क्रिकेट एसोसिएशन के सदस्य संजीव गुप्ता की शिकायत पर भेजा गया था। द्रविड़ पर यह आरोप है कि, वे नेशनल क्रिकेट एकेडमी के निदेशक होने के साथ-साथ इंडिया सीमेंट्स में उपाध्यक्ष भी हैं। इस कंपनी की आईपीएल में चेन्नई सुपर किंग्स नाम से टीम भी है जिससे हितों का टकराव होता है।’ जस्टिस जैन ने कहा कि, ‘मुझे द्रविड़ के बारे में शिकायत मिली और इसमें आधार था तो मैंने उन्हें नोटिस भेजा। अब मुझे उनके जवाब का इंतजार है। किसी नौकरी से छुट्टी लेने का मतलब यह नहीं है कि आपके पास वह पोस्ट नहीं है। हितों के टकराव के नियम साफ है और मैं उन्हीं का पालन कर रहा हूं।’

सुप्रीम कोर्ट की ओर से नियुक्त प्रशासकों की समिति ने द्रविड़ को नोटिस भेजे जाने पर सुझाव दिया कि उन्होंने इंडिया सीमेंट से गैरमौजूद रहने की छुट्टी ले रखी है। द्रविड़ को नोटिस मिलने के बाद सौरभ गांगुली ने कहा कि, ‘यह इंडियन क्रिकेट का नया फैशन है। इंडियन क्रिकेट को भगवान ही बचाए।’ वहीं हरभजन ने कहा कि, ‘इस तरह के नोटिस भेजकर द्रविड़ जैसे महान व्यक्ति का अपमान किया जा रहा है।’ गौरतलब है कि द्रविड़ से पहले जस्टिस जैन ने गांगुली, सचिन तेंदुलकर और वीवीएस लक्ष्मण को भी हितों के टकराव का नोटिस भेजा था।

Related posts