ये है आधुनिक युग का कुंभकरण, साल के 300 दिन सोता है, खाना भी नींद में खाता है

चैतन्य भारत न्यूज 

आज तक आपने कुंभकरण के बारे में कई कहानियां सुनी होंगी लेकिन हम आपको आज असल जिंदगी के कुंभकरण से मिलवा रहे हैं। दरअसल, राजस्थान के नागौर का रहने वाला एक शख्स इन दिनों चर्चा का विषय बना हुआ है। यह शख्स साल में 300 दिन सोता है, बाकी समय अपना छोटा मोटा काम कर गुजारा करता है। ये कोई सामान्य बात नहीं है। इस व्यक्ति को एक खास तरह की बीमारी है जिसकी वजह से उसकी ये हालत है।

अजीब बीमारी से ग्रस्त 

42 साल के पुरखाराम एक अजीब बीमारी से ग्रसित हैं। वे अपने ज्यादातर नित्य क्रिया के काम नींद में ही करते हैं। वे कई बार साल में 300 दिन तक सोते हैं। उनका खाने से लेकर नहाना, सब कुछ नींद में ही होता है। सुनने में अजीब लगता है, लेकिन जिले के भादवा गांव के रहने वाले पुरखाराम की ऐसी ही जिंदगी है। पुरखाराम की गांव में ही रानाबाई किराणा स्टोर के नाम से दुकान है। 2015 से उनकी ये बीमारी ज्यादा बढ़ गई और वे एक दिन में 18-18 घंटे भी सोने लगे। कई बार उनकी दुकान के बाहर कितने अखबार पड़े हैं, इससे अंदाजा लगाया जाता है कि वे कितने दिन सो लिए हैं।

300 दिन सोने वाला शख्स

पुरखाराम के सोने के बाद उन्हें उठाना नामुमकिन हो जाता है। उन्हें नींद में ही परिजन खाना खिलाते हैं। जब बाथरूम जाना होता है तो नींद में ही पुरखाराम बेचैन हो जाते हैं और उन्हें उठाकर परिजन बाथरूम ले जाते हैं। अभी तक पुरखाराम की नींद का कोई इलाज नहीं मिला है, लेकिन उनकी माता कंवरी देवी और पत्नी लिछमी देवी को उम्मीद है कि जल्द ही वे ठीक हो जाएंगे और पहले की तरह अपनी जिंदगी जिएंगे। पुरखाराम को एक्सिस हायपरसोम्निया नाम की बीमारी है। घर वालों ने बताया कि एक बार सोने के बाद वे 25 दिनों तक नहीं जागते हैं। इसकी शुरुआत 23 साल पहले हुई थी। शुरुआती दौर में 5 से 7 दिनों के लिए सोते थे, लेकिन अब लंबा सोने लगे।

Related posts