पीएम मोदी ने श्रीराम जन्मभूमि परिसर में लगाया पारिजात का पौधा, जानिए इसका धार्मिक महत्व

चैतन्य भारत न्यूज

आज हिंदू धर्म को मानने वालों के लिए बेहद ही खास दिन है। करीब 500 सालों के इंतजार के बाद आखिरकार आज प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने राम मंदिर निर्माण के लिए भूमि पूजन पूर्ण कर दिया है। अयोध्या पहुंचकर पीएम मोदी ने सबसे पहले हनुमान गढ़ी पहुंचकर रामलला के दर्शन किए। इसके बाद उन्होंने एक पारिजात का पौधा भी लगाया। हिंदू धर्म में इस पौधे को बहुत खास स्थान हासिल है। इसे पवित्र पौधा मानते हैं, जिसके फूल ईश्वर की आराधना में महत्वपूर्ण स्थान रखते हैं।

पारिजात के अन्य नाम

पारिजात को हरसिंगार, प्राजक्ता, परिजात, शेफालिका, शेफाली, शिउली भी कहा जाता है। उर्दू में गुलजाफरी कहते हैं। यह पौधा बेहद ही सुंदर होता है। इससे सुंगध फूटती रहती है। इस पर आकर्षक व खुशबूदार फूल लगते हैं। इसके फूल, पत्ते और छाल का उपयोग कई तरह औषधियों में होता है। ये पौधा सारे देश में पैदा होता है। भारतकोश के अनुसार ये भी माना जाता है कि पारिजात के पौधे को छूने मात्र से ही व्यक्ति की थकान मिट जाती है।

कैसा होता है इसका पौधा

परिजात के पौधे के फूलों से भगवान हरि का श्रृंगार होता है। ऐसा कहा जाता है कि मां लक्ष्मी को भी इसके फूल बेहद पसंद हैं। यह औषधीय पौधा हिमालय के नीचे के तराई वाले क्षेत्रों में पाया जाता है। इसका फूल रात में खिलता है और सुबह तक झड़ जाता है इसलिए इसे रातरानी भी कहा जाता है। अधिकतर पारिजात का पौधा 10 से 15 फीट ऊंचा होता कहीं, कहीं इसकी ऊंचाई 25 से 30 फीट भी होती है।

यह है धार्मिक मान्यताएं

हिंदू धर्म में पारिजात को लेकर समुद्र मंथन की कथा प्रचलित है। इसके अनुसार यह मंथन से उत्पन्ना हुआ है और द्वापर युग में भगवान श्री कृष्ण, देवी सत्यभामा के लिए इसे स्वर्ग से धरती पर लाए थे। कहा जाता है कि देवताओं के राजा इंद्र के इंद्रलोक की अप्सरा उर्वशी की एक पेड़ को छूने भर से थकान मिट जाती थी और वो पेड़ यही पारिजात का था। कहा जाता है कि देवी लक्ष्मी को पारिजात के फूल बेहद प्रिय हैं। पूजा के लिए पेड़ से गिरे हुए फूलों का उपयोग किया जाता है और पेड़ से नहीं तोड़े जाते। एक मान्यता यह भी है कि भगवान राम के वनवास के 14 सालों में माता सीता ने इसके फूलों से ही श्रृंगार किया था।

ये भी पढ़े…

भूमिपूजन के बाद बोले पीएम मोदी- आज भारत राममय है, मंदिर से निकलेगा भाईचारे का संदेश, राम सबके हैं

अयोध्या में रचा गया इतिहास, प्रधानमंत्री मोदी ने पूजा के बाद रखी राम मंदिर की आधारशिला, नींव में रखी 40 किलो चांदी की ईंट

राम मंदिर भूमि पूजन: PMO ने साझा की प्रस्तावित राम मंदिर की तस्वीरें, अयोध्या में मेहमानों के आने का सिलसिला शुरू

 

 

Related posts