कोरोना वायरस के कारण राम मंदिर निर्माण पर लगी रोक, लॉकडाउन खत्म होने के बाद नई तिथि की घोषणा

ram mandir

चैतन्य भारत न्यूज

अयोध्या. रामजन्मभूमि अयोध्या में श्री रामलला को अस्थाई मंदिर में विराजमान कर दिया गया है। इसी के साथ राम मंदिर निर्माण के पहले चरण की प्रक्रिया खत्म हो गई है। जल्द ही दूसरे चरण की प्रकिया शुरू होनी थी लेकिन देशभर में कोरोना वायरस के चलते लॉकडाउन की वजह से इस प्रक्रिया पर कुछ समय के लिए विराम लग गया है।

रामजन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र ट्रस्ट के महासचिव चंपत राय ने बताया कि, ‘कोरोना वायरस के करण लॉकडाउन के चलते मजदूरों एवं संसाधनों का आवागमन संभव नहीं है। अब इस बारे में 14 अप्रैल के बाद निर्णय लिया जाएगा।’ बता दें 4 अप्रैल को श्रीरामजन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र ट्रस्ट की बैठक होनी वाली थी लेकिन अब इसे स्थगित करने की तैयारी है। जल्द ही इसकी आधिकारिक घोषणा होगी।

बता दें इस बैठक में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से गर्भगृह में भूमिपूजन की तिथि तय की जानी थी। इसी के साथ सेवानिवृत्त शीर्ष आईएएस नृपेंद्र मिश्र की अगुवाई में निर्माण कार्य शुरू होना था। ट्रस्ट की बैठक के लिए परिसर के अंदर मौजूद रामचरित मानस भवन का स्थान तय किया गया था। पिछले करीब 28 साल से बंद पड़े मानस भवन के कमरों की जर्जर स्थिति सुधारने के लिए सभागार समेत 11 कमरों के नवीनीकरण की प्रक्रिया भी जारी है।

ट्रस्ट के अधिकारिक सूत्रों के मुताबिक, मंदिर निर्माण के लिए मानस भवन के आवासीय परिसर को छोड़कर अन्य सभी हिस्सों को ढहा दिया जाएगा। गौरतलब है कि सुप्रीम कोर्ट ने 9 नवंबर 2019 को श्रीरामजन्मभूमि पर भव्य राम मंदिर बनाए जाने का फैसला लिया था। लेकिन अब कोरोना वायरस के चलते 492 साल बाद भी राममंदिर निर्माण की प्रतीक्षा खत्म होने में कुछ दिन और लगेंगे।

ये भी पढ़े…

492 साल बाद अस्थाई मंदिर में चांदी के सिंहासन पर विराजे रामलला, सीएम योगी भी रहे मौजूद, देखें तस्वीरें

लार्सन एण्ड टुब्रो कंपनी करेगी अयोध्या में भव्य राम मंदिर का निर्माण, बिना कॉन्ट्रैक्ट लिए सेवाभाव से करेगी काम

महंत नृत्य गोपाल दास बने राम मंदिर ट्रस्ट के अध्यक्ष तो चंपत राय महासचिव, मंदिर निर्माण के लिए मिला लाखों का दान

 

Related posts