रामलीलाःरावण ने सीताहरण में दिखाए डरावने हावभाव, नृत्य के साथ सुंदर प्रस्तुति, लंका दहन भी हुआ

   चैतन्य भारत न्यूज।

इंदौर। महालक्ष्मी नगर मैदान में जारी तीन दिवसीय रामलीला मंचन के दूसरे दिन शनिवार को विभिन्न प्रसंगों का मंचन हुआ।सीताहरण से पूर्व रावण ने सीता को खूब डराया, धमकाया। यह सब हुआ नृत्य की विभिन्न शैलियों में।

इस दौरान राम वनवास भी गए और लंका दहन भी हुआ। सीताहरण ने दर्शकों के मन में डर, रावण के प्रति नफरत तो पैदा की ही, साथ ही कलाकारों की नृत्य शैली की प्रस्तुति ने उन्हें बांधे भी रखा।

देश- विदेश से आए कलाकार

देश- विदेश (कंबोडिया, सिंगापुर और नेपाल) में सैकड़ों मंचन का अनुभव रखने वाले कलाकारों से सजी श्रीरामलीला में शनिवार को राम-वनवास, केवट प्रसंग, चित्रकूट में भरत मिलाप, सीताहरण बाली- वध और लंका दहन के प्रसंग की प्रस्तुति हुई।

10 फरवरी  को श्रीराम के राजतिलक का मंचन

तीन दिवसीय रामलीला मंचन के तीसरे और आखिरी दिन 10 फरवरी (वसंत पंचमी) को श्रीराम के राजतिलक का मंचन होगा। रामलीला की शुरुआत में पूजन में सत्यसाई स्कूल की प्राचार्य पुनीता नेहरू भी शामिल हुईं।

संस्कृति कला संगम, दिल्ली के कलाकारों द्वारा श्रीरामलीला का मंचन महालक्ष्मी नगर मैदान (बॉम्बे हॉस्पीटल) के पास चल रहा है। इसमें प्रवेश निशुल्क है।

चैतन्य भारत न्यूज.कॉम के उद्घाटन अवसर पर हो रहा आयोजन

आयोजन समिति के मुताबिक रामलीला मंचन में सिर्फ अभिनय नहीं नृत्य के माध्यम से भी श्रीराम की लीलाओं का वर्णन किया जा रहा है। कलाकारों में कई शास्त्रीय नृत्य के जानकार है और विभिन्न नृत्य शैलियों में मंचन किया जाता है
श्रीरामलीला मंचन का आयोजन न्यूज पोर्टल चैतन्य भारत न्यूज.कॉम के उद्घाटन के अवसर पर किया जा रहा है।

यह भी पढ़ें…

चैतन्य भारत न्यूज.कॉम की औपचारिक शुरुआत, रामलीला ने बांधा समां

Related posts