रंग पंचमी 2021: होली उत्सव का अंतिम दिन रंग पंचमी, इन पांच देवताओं को प्रसन्न करने का त्योहार

चैतन्य भारत न्यूज

रंगों का त्योहार होली की शुरुआत चैत्र मास के कृष्णी पक्ष की प्रतिपदा से हो जाती है जो पंचमी तिथि तक चलता है। इसे रंग पंचमी कहते हैं। इस साल रंग पंचमी का त्योहार 2 अप्रैल को है। कुछ स्थानों पर इसे श्री पंचमी और देव पंचमी भी कहा जाता है। रंग पंचमी का उत्सव मध्य प्रदेश, राजस्थान और महाराष्ट्र में धूमधाम से मनाया जाता है। आइए जानते हैं इस उत्सव से जुड़ी खास बातें…

रंग पंचमी का महत्व

हिंदू पौराणिक कथाओं के मुताबिक, रंग पंचमी का त्योहार तामसिक और राजसिक गुणों पर सत्त्वगुण (पवित्रता) की जीत और विजय का प्रतीक है। रंग पंचमी का त्योहार 5 प्रमुख तत्वों को सक्रिय करने में मदद करता है। इन प्रमुख तत्वों में हवा, आकाश, पृथ्वी, जल और प्रकाश शामिल हैं। पुराणों के अनुसार, मनुष्य का शरीर भी इन्हीं पंच तत्त्वों से मिलकर बना हुआ है।

देवताओं को आकर्षित करते रंग

इस दिन होली की तरह ही एक-दूसरे को रंग लगाए जाते हैं। रंग पंचमी का दिन देवी-देवताओं को समर्पित होता है। रंग देवताओं को भी आकर्षित करते हैं। मान्यता है कि रंग और गुलाल से वातावरण में ऐसा रंगीला माहौल बन जाता है कि व्यक्ति में नकारात्मक ऊर्जा का नाश होता है और सकारात्मक गुण प्रवेश करते हैं। माना जाता है कि इस दिन रंग खेलने से ये पांचों देवता प्रसन्‍न होते हैं और सुख, समृद्धि और वैभव का आशीर्वाद देते हैं।

ये भी पढ़े…

होली पर रहना है रोगों और इंफेक्शन से दूर, तो इन तरीको से रखें अपनी त्वचा का ख्याल

अनोखी होली : यहां होली पर एक साथ निकलती है बारात और शवयात्रा, शामिल होते हैं सैंकड़ों लोग

होली 2021: राजस्थान के इस गांव में खेली जाती है पत्थरमार होली, सालों पुरानी है परंपरा

होली 2021: हर रंग का अपना महत्व, जानिए कौन सा रंग क्या कहता है?

Related posts