डेबिट-क्रेडिट से जुड़े इन नियमों में आज से हुआ बदलाव, बंद हुई ऑनलाइन सुविधा!

debit credit card

चैतन्य भारत न्यूज

नई दिल्ली. क्रेडिट तथा डेबिट कार्ड से जुड़े नियम 16 मार्च से यानी आज से ही बदल गए हैं। डेबिट, क्रेडिट कार्ड ट्रांजेक्शन को और सुरक्षित रखने के लिए भारतीय रिजर्व बैंक ने नए नियम बनाए हैं जो 16 मार्च यानी आज से लागू हो गए हैं। आरबीआई ने इस संबंध में जनवरी 2020 में अधिसूचना जारी की थी।आइए जानते हैं इन नए नियमों के बारे में।


आरबीआई 16 मार्च से लागू कर रहा है ये नियम

आरबीआई ने बैंकों से कहा है कि, ‘कार्ड इश्यू/रीइश्यू करते समय देश में एटीएम और पीओएस टर्मिनल्स पर सिर्फ डॉमेस्टिक कार्ड्स से ट्रांजेक्शन को ही मंजूरी दें। यानी कि अब जिन लोगों का विदेश आना-जाना नहीं होता है और उनके बैंक कार्ड पर ओवरसीज सुविधा नहीं मिलेगी। बता दें अब तक बैंक इन सभी सेवाओं को बिना डिमांड किए भी शुरू कर देते हैं। लेकिन अब बैंक में आवेदन करने पर ही ये सेवाएं शुरू होंगी।

बंद हुई यह सुविधा

डेबिट और क्रेडिट कार्ड में ऑनलाइन लेनदेन की सुविधा डिसेबल (निष्क्रिय) हो गई है। ग्राहकों को सुविधा दी जाएगी लेकिन इस सुविधा को उन्हें इनेबल (सक्रिय) कराना होगा। नए कार्ड में सिर्फ दो सुविधाएं दी जाएंगी- एक ATM से पैसे निकालना और दूसरा प्वाइंट ऑफ सेल (पीओएस) डिवाइसेज पर इस्तेमाल करना जिसे आम भाषा में कार्ड स्वाइप से भुगतान करना कहते हैं।

कार्ड को ऑन/ऑफ कर सकेंगे

आज से 24×7 किसी भी समय अपने कार्ड को ऑन/ऑफ कर सकते हैं या ट्रांजैक्शंस लिमिट में बदलाव कर सकते हैं। आमतौर पर क्रेडिट या डेबिट कार्ड के साथ फ्रॉड होने पर हम कार्ड ब्लॉक करने के लिए बैंक को फोन लगाते हैं, लेकिन अब आप खुद ही अपने क्रेडिट, डेबिट या एटीएम कार्ड को बंद और चालू कर सकेंगे। क्रेडिट या डेबिट कार्ड को बंद या चालू करने का विकल्प इंटरनेट बैंकिंग, एटीएम मशीन या फिर मोबाइल एप के जरिए मिल सकता है।

ट्रांजेक्शन लिमिट सेट करने की भी सुविधा

ग्राहकों के पास ट्रांजेक्शन लिमिट सेट करने की भी सुविधा होगी। ग्राहक जरुरत के हिसाब से यह खुद ही तय कर सकेंगे कि कब किस माध्यम से कार्ड की कितनी लिमिट का इस्तेमाल किया जा सकता है। आपके क्रेडिट कार्ड की लिमिट चाहे जितनी हो, आप खुद यह तय कर सकेंगे कि लिमिट का कितना हिस्सा ऑनलाइन या फिर किसी अन्य माध्यम से लेनदेन में इस्तेमाल हो। इसके अलावा जब भी आपके कार्ड के स्टेटस में बदलाव हाेगा, बैंक आपको SMS या ई-मेल के जरिए अलर्ट/सूचना/स्टेटस भेजेंगे।

ये भी पढ़े…

फ्री WIFI के लालच में आप हो सकते हैं हैकर्स का शिकार, इन बातों का रखें ध्यान

रिपोर्ट : 56% लोग बिना मोबाइल के नहीं करते जीवन की कल्पना, एक साल में 1800 घंटे फोन पर बिताते हैं भारतीय लोग

आरबीआई ने दी आम आदमी को बड़ी सौगात, अब से NEFT और RTGS से पैसे ट्रांसफर करना हुआ मुफ्त

RBI ने लॉन्च की मोबाइल ऐप मनी, इससे दृष्टिबाधित आसानी से कर सकेंगे नोटों की पहचान

 

Related posts