उपद्रवियों द्वारा तोड़फोड़ से भड़की रिलायंस, दायर की याचिका, कहा- कृषि कानूनों से हमारा कोई लेना-देना नहीं

चैतन्य भारत न्यूज

कृषि कानूनों के विरोध में पिछले कुछ दिन से पंजाब में जियो के मोबाइल टावरों को निशाना बनाया जा रहा था। अब रिलायंस इंडस्ट्रीजल लिमिटेड ने अपनी सब्सिडियरी कंपनी रिलायंस जियो इंफोकॉम लिमिटेड के जरिए पंजाब और हरियाण हाई कोर्ट में उपद्रवियों पर सरकारी प्राधिकरणों द्वारा तत्काल हस्तक्षेप करने के लिए याचिका दायर की है।

दायर याचिका में रिलायंस ने कहा कि, ‘नए तीन कृषि कानूनों का कंपनी का कोई लेना-देना नहीं है, और न ही किसी भी तरह से उसे इनका कोई लाभ पहुंचता है।’ अपनी स्थिति स्पष्ट करने के लिए कोर्ट में रिलायंस ने कहा कि, ‘रिलायंस इंडस्ट्रीज लिमिटेड, रिलायंस रिटेल लिमिटेड (RRL), रिलायंस जियो इंफोकॉम लिमिटेड (RJIL) और रिलायंस से जुड़ी कोई भी अन्य कंपनी न तो कॉरपोरेट या कॉन्ट्रैक्ट फ़ार्मिंग करती है और न ही करवाती है। और न ही इस बिजनेस में उतरने की कंपनी की कोई योजना है।’

कंपनी ने कहा कि उसका कृषि कानूनों से कोई लेना-देना नहीं है और इनसे उसे जोड़कर उसके कारोबार और प्रतिष्ठा को नुकसान पहुंचाया जा रहा है। रिलायंस इंडस्ट्रीज लिमिटेड की सब्सिडियरी रिलायंस जियो इन्फोकॉम लिमिटेड (RJIL) ने पंजाब और हरियाणा हाईकोर्ट में दायर एक याचिका में कहा है कि, ‘तीनों कृषि कानूनों से उसका कोई लेना-देना नहीं है इससे किसी भी तरह से उसका कोई फायदा नहीं है। रिलायंस रिटेल, जियो इन्फोकॉम या इनसे जुड़ी कोई भी कंपनी ने कभी भी ‘कॉरपोरेट’ या ‘कॉन्ट्रैक्ट’ खेती नहीं की है और निकट भविष्य में भी उसका ऐसा करने का कोई इरादा नहीं है।’

कंपनी ने राज्य सरकार से अनुरोध किया है कि वह उसके टावरों को नुकसान पहुंचाने के अवैध कार्रवाई को रोकने के लिए दखल दे। कंपनी ने अपनी याचिका में कहा, ‘हिंसा की कार्रवाई से उसके हजारों कर्मचारियों का जीवन खतरे में आया है और जरूरी संचार, बिक्री और सेवा ढांचे में बाधा उत्पन्न हुई है।’

मोबाइल टावरों को नुकसान

जानकारी के मुताबिक, अब तक पंजाब में 1500 से ज्यादा मोबाइल टावरों को नुकसान पहुंचाया जा चुका है, कई मोबाइल टावरों की बिजली काट दी गई तो कई जगह तार के बंडल जला दिए गए हैं। आरोप है कि, नए कृषि कानूनों के खिलाफ प्रदर्शन कर रहे किसान और उनके सहयोगी मोबाइल टावरों को नुकसान पहुंचा रहे हैं। इससे पहले किसानों पर रिलायंस पेट्रोल पंप, रिलायंस रिटेल पर अपना गुस्सा उतारने का आरोप लगा था। पिछले कुछ दिनों में पंजाब में मोबाइल टावर की पावर काटने, बिजली के तार काटने की घटनाएं सामने आ रही थीं।

Related posts