बिहार: विधानसभा में चूहा लेकर पहुंचे RJD नेता, राबड़ी देवी बोलीं- कड़ी से कड़ी सजा दो, मुस्‍कुरा दिए नीतीश

rjd

चैतन्य भारत न्यूज

पटना. बिहार विधानसभा में बजट सत्र के दौरान शुक्रवार को एक अजीबोगरीब वाकया देखने को मिला। राष्ट्रीय जनता दल (आरजेडी) के विधान परिषद सदस्य (एमएलसी) सुबोध कुमार राय विधानसभा में एक चूहेदानी में चूहे को कैद करके ले आए। उन्होंने चूहे पर कार्रवाई करने की मांग उठाई। इस दौरान सत्ता पक्ष और विपक्ष के सदस्य आपस में उलझ गए।


आरोपी चूहे को लेकर ड्रामा

दरअसल बिहार के चूहे आम नहीं, बेहद खास हैं। कभी वो थाने में रखी शराब की बोतलों को गटक जाते हैं तो कभी बांध काट देते हैं, जिससे बाढ़ आ जाती है। कभी शिक्षकों की फाइलें कुतर देते हैं तो कभी मरीजों के लिए रखी स्लाइन की बोतल ही पी जाते हैं। ऐसे में आरजेडी नेता आज चूहे को पकड़ ही लाए और उन्होंने कहा कि, ‘बिहार की फाइलों को खाने वाला, शराब गटकने वाला और अस्पताल में रखे स्लाइन पीने वाले अपराधी चूहा को आज पकड़ लिया गया है।’

राबड़ी देवी ने की कड़ी सजा की मांग

विधानसभा के बाहर पूर्व मुख्यमंत्री और राजद नेता राबड़ी देवी भी मौजूद थीं। उन्होंने नीतीश सरकार पर निशाना साधते हुए कहा कि, ‘यह सरकार अहम फाइलें, दवाईयां या शराब गायब होने पर चूहे को जिम्मेदार ठहराती है।’ राबड़ी ने आगे कहा कि, ‘जिस चूहे को सरकार की पुलिस नहीं पकड़ पाई, उसको आरजेडी ने पकड़ लिया है। इसलिए अब इस चूहे को कड़ी से कड़ी सजा दी जाए।’ गेट पर चूहे को लेकर काफी देर तक ड्रामा चलता रहा। इस हंगामें को देखकर सीएम नीतीश कुमार भी मुस्कुरा रहे थे।

चूहे को सदन में हाजिर करने की मांग

न सिर्फ सदन के बाहर बल्कि चूहे को लेकर सदन के अंदर भी मामला गर्माया था। दरअसल आरजेडी नेता रामचंद्र पूर्वे ने सदन के भीतर चूहे को हाजिर करने की मांग उठाई। उन्होंने कहा कि, ‘बहुत मुश्किल से ऐसा दोषी पकड़ में आया है, इसलिए इसे सदन में लाने की अनुमति दी जाए।’

हर बार चूहों पर लगाया गया आरोप

बता दें बिहार की राजनीति में हमेशा से ही चूहों का बोलबाला रहा है। जब बिहार में बाढ़ आए तो चूहों पर इसका इल्जाम लगाया गया और कहा कि, उन्होंने बांध को काट दिया जिसकी वजह से बाढ़ आई। जब बिहार में शराबबंदी के बाद शराब की पेटियां जब्त कर थाने में रखी गई थी तो कुछ बोतलें खाली पाई गई थी। इसका इल्जाम भी चूहों पर लगाया गया था और कहा था कि, चूहों ने सैकड़ों बोतल शराब पी ली। ऐसे ही और भी कई बार चूहों पर इल्जाम लगाया गया जिसके बाद शुक्रवार को राजद नेताओं ने विधान परिषद के बाहर पिंजरे में बंद चूहे के साथ अनोखा प्रदर्शन किया।

ये भी पढ़े…

एक चूहा पकड़ने में 22 हजार रुपए खर्च करता है चेन्नई रेल डिवीजन, रिपोर्ट में हुआ खुलासा

चूहे मारने के लिए रेलवे ने रोजाना खर्च किए 14 हजार रुपए, अब तक मरे 5457 चूहे, खर्च हुए 1.52 करोड़

विधायक अनंत सिंह के करीबी भूषण और चूहा ने बाढ़ कोर्ट में किया सरेंडर, पुलिस को नहीं लगी भनक

 

Related posts