रोहित शेखर हत्याकांडः भाभी से अवैध संबंध के चलते अपूर्वा ने किया पति का कत्ल! ये बड़े कारण आए सामने

rohit shekhar tiwari,apoorva shukla

चैतन्य भारत न्यूज

नई दिल्ली. उत्तरप्रदेश और उत्तराखंड के पूर्व मुख्यमंत्री एनडी तिवारी के बेटे रोहित शेखर तिवारी की हत्या के मामले में गुरुवार को पत्नी अपूर्वा शुक्ला के खिलाफ हत्या की धारा 302 के तहत आरोप पत्र दाखिल कर दिया। दिल्ली पुलिस की अपराध शाखा ने जिला अदालत में अपूर्वा के खिलाफ 518 पन्नों का आरोप पत्र दाखिल किया है। इस पर अदालत शुक्रवार को संज्ञान लेगी।

रोहित की मौत की वजह का खुलासा नहीं : अब शक दोनों के कथित अवैध रिश्तों पर

जानकारी के मुताबिक आरोप पत्र में 56 लोगों के नाम गवाह के तौर पर दर्ज किए गए हैं। इन गवाहों में रोहित शेखर की मां उज्ज्वला तिवारी भी शामिल हैं। आरोप पत्र में पुलिस ने कहा है कि, ‘अपूर्वा को शक था कि रोहित के अपनी भाभी से नाजायज संबंध थे और उन दोनों का एक बेटा भी है, जिस कारण संपत्ति भी शायद उस बेटे को दे दी जाएगी।’ आरोप पत्र के मुताबिक, 15 अप्रैल को रोहित अपनी मां, भाभी व नौकरों के साथ हल्द्वानी से वोट डालकर वापस कार में आ रहे थे। इस दौरान अपूर्वा ने रोहित को वीडियो कॉल किया तो उसमें रोहित अपनी भाभी के साथ एक ही गिलास से शराब पीता दिखाई दिए। इसी बात को लेकर रात में रोहित और अपूर्वा के बीच झगड़ा हुआ। दरअसल, अपूर्वा रोहित की भाभी को पसंद नहीं करती थी। फिर अपूर्वा ने रात करीब 12:45 बजे तकिये से मुंह दबाकर रोहित की हत्या कर दी। बता दें एम्स के मेडिकल बोर्ड ने भी अपनी जांच रिपोर्ट में हत्या का कारण दम घुटना बताया। हालांकि, अभी इसकी फोरेंसिक रिपोर्ट आना बाकी है।

आरोप पत्र में यह भी कहा गया है कि, अपूर्वा की राजनीतिक महत्वाकांक्षाएं थी, लेकिन रोहित से शादी के बाद उसे एहसास हुआ कि उसके पति का कोई राजनीतिक आधार नहीं है और फिर उसे लगा कि उसके सपने पूरे नहीं हो पाएंगे। पुलिस ने बताया कि, रोहित की मां और भाभी को भी यह लगता था कि रोहित को इस शादी से बाहर आ जाना चाहिए। साथ ही ऐसा भी माना जा रहा है कि दोनों के तलाक के मुकदमे पर फैसला जून में होने वाला था।

ये बच्चा बना रोहित शेखर के कत्ल की वजह! अपूर्वा ने खोला गहरा राज

बता दें रोहित और अपूर्वा की मुलाकात एक मैट्रीमोनियल साइट के जरिए साल 2017 में हुई थी। फिर दोनों ने मई 2018 में शादी कर ली थी। शादी के 14-15 दिनों बाद से ही दोनों के बीच विवाद होना शुरू गया था और तलाक के मुद्दे पर जून 2019 में परिवार कोई निर्णय लेने वाला था। आरोप पत्र के अनुसार, शादी के कुछ ही दिनों बाद अपूर्वा ने अलग घर में रहना शुरू कर दिया था। फिर अपूर्वा ने रोहित के खिलाफ एक कानूनी नोटिस भिजवाया था लेकिन बाद में दोनों के बीच सुलह हो गई थी।

आरोप पत्र में कहा गया है कि, 15 अप्रैल को जब 10 बजे रोहित घर लौटे तो उन्होंने अकेले ही खाना खाया और फिर अपनी मां से मुलाकात की। फिर अपूर्वा टीवी देखने के बाद देर रात पौने एक बजे रोहित के कमरे में गई। रोहित के अपनी भाभी के गिलास में शराब पीने को लेकर कमरे में अपूर्वा की पति से बहस हुई जिसके बाद उसने रोहित की हत्या कर दी। रिपोर्ट्स के मुताबिक, रोहित के कमरे में बाहर से कोई भी नहीं आ सकता था। घर में लगे सीसीटीवी कैमरे के फुटेज में आखिरी बार अपूर्वा ही रोहित कमरे में जाती हुई दिखी थी। इन तथ्यों को सबूत के रूप में शामिल किया गया है।

रोहित को गर्लफ्रेंड के साथ देख लिया था, इसलिए अपूर्वा ने कर दी हत्या, हुई गिरफ्तार

मध्यप्रदेश के इंदौर की रहने वाली अपूर्वा शुक्ला पेशे से वकील है। उसके पिता व परिवार के और भी कई सदस्य वकील हैं इसलिए उसे कानून के हर दाव पेंच के बारे में जानकारी थी। 2016 से अपूर्वा सुप्रीम कोर्ट में प्रैक्टिस करती थी। हत्या के बाद पहले तो वह कई दिनों तक क्राइम ब्रांच को गुमराह करती रही लेकिन फिर परिस्थितजन्य, सबूतों और फॉरेंसिक रिपोर्ट्स के आधार पर लगातार पूछताछ पर उसने 24 अप्रैल को हत्या करने की बात कबूल ली थी।

बता दें शुक्रवार को अपूर्वा की कोर्ट में पेशी है। अगर पुलिस गुरुवार को आरोप पत्र नहीं दाखिल करती तो उसे जमानत मिलने की संभावना थी। जानकारी के मुताबिक, पुलिस हत्या के केस में तीन महीने के अंदर आरोप पत्र दाखिल कर सकती है लेकिन इस केस में दिल्ली पुलिस ने 81 दिन में ही अपूर्वा के खिलाफ आरोप पत्र दाखिल कर दिया। बता दें अपूर्वा के खिलाफ धारा 302 के तहत आरोप तय किए हैं जो हत्या से संबंधित है और इसके तहत दोषी पाए जाने पर मृत्युदंड या आजीवन कारावास की सजा हो सकती है।

रोहित शेखर मर्डर केस : अपूर्वा ने किया खुलासा, मौत से पहले रोहित और अपूर्वा ने एक-दूसरे का दबाया था गला

 

Related posts