बड़ी बेंच को सौंपा गया सबरीमाला मंदिर मामला, महिलाओं के प्रवेश से जुड़ा है विवाद

supreme court

चैतन्य भारत न्यूज

नई दिल्ली. सबरीमाला मंदिर में महिलाओं के प्रवेश को लेकर गुरुवार को सुप्रीम कोर्ट ने बड़ा फैसला लिया है। कोर्ट ने इस विवाद को अब बड़ी बेंच को सौंप दिया गया है। यानी अब इस मामले में 7 जजों की बेंच सुनवाई करेगी। कोर्ट में 5 जजों की बेंच ने इस फैसले को 3:2 के बहुमत से बड़ी बेंच को सौंपा।


सिर्फ मंदिर तक सीमित नहीं विवाद 

सबरीमाला मामले पर फैसला पढ़ते हुए सुप्रीम कोर्ट ने कहा कि, इस केस का असर सिर्फ इस मंदिर नहीं बल्कि मस्जिदों में महिलाओं के प्रवेश, अग्यारी में पारसी महिलाओं के प्रवेश पर भी पड़ेगा।  कोर्ट ने यह भी कहा कि, ‘परंपराएं धर्म के सर्वोच्च सर्वमान्य नियमों के मुताबिक होनी चाहिए।’

पांच जजों की बेंच ने सुनाया फैसला 

बता दें गुरुवार को चीफ जस्टिस रंजन गोगोई की अगुवाई में पांच जजों की बेंच ने इस मामले पर अपना फैसला सुनाया। इस बेंच में चीफ जस्टिस रंजन गोगोई के अलावा जस्टिस डीवाई चंद्रचूड़, जस्टिस खानविलकर, जस्टिस नरीमन और जस्टिस इंदु मल्होत्रा शामिल थे।

महिलाओं के प्रवेश पर रोक 

सबरीमाला मंदिर में महिलाओं के प्रवेश के फैसले के खिलाफ दायर रिव्यू पेटिशन पर सुप्रीम कोर्ट ने अपना फैसला सुनाया। बता दें मंदिर में 10 से 50 साल के बीच की महिलाओं का प्रवेश करना वर्जित था। लेकिन सुप्रीम कोर्ट ने महिलाओं को प्रवेश करने और पूजा करने की आजादी दे दी थी। बावजूद इसके महिलाएं मंदिर में प्रवेश नहीं कर पा रही थीं। इसे लेकर सारा विवाद शुरू हुआ।

क्या है इस मंदिर की खासियत

बता दें यह मंदिर केरल के सबरीमाला में मौजूद है जो विश्व प्रसिद्ध है। यहां हर साल करोड़ों की संख्या में भक्त दर्शन करने के लिए आते हैं। मक्का-मदीना के बाद यह दुनिया का दूसरा सबसे बड़ा तीर्थ माना जाता है। दूसरे हिंदू मंदिरों की तरह ये मंदिर सालभर नहीं खुला रहता। मलयालम पंचांग के पांच दिन और अप्रैल में इस मंदिर के द्वार खुलते हैं। हर साल इस मंदिर में 14 जनवरी को ‘मकर विलक्कू’ और 15 नवंबर को ‘मंडलम’ उत्सव माना जाता है। इसे देखने के लिए दूर-दूर से लाखों की संख्या में लोग आते हैं। मंदिर में सिर्फ काले और नीले कपड़ों में ही प्रवेश किया जा सकता है। भगवान राम को झूठे बेर खिलाने वाली सबरी के नाम पर ही इस मंदिर का नाम सबरीमाला पड़ा।

ये भी पढ़े…

राफेल और राहुल गांधी पर आज आएगा सुप्रीम कोर्ट का अंतिम फैसला

अयोध्या के अलावा रिटायर होने से पहले इन 4 अहम मुद्दों पर भी फैसला सुनाएंगे चीफ जस्टिस रंजन गोगोई

महिलाओं को मस्जिद में प्रवेश की अनुमति दिलवाने के लिए सुप्रीम कोर्ट में याचिका, कोर्ट ने जारी किए नोटिस

 

 

 

Related posts