सद्भावना दिवस: शांति और सद्भाव के लिए एक दिन, जानिए इस दिवस का राजीव गांधी से क्या है कनेक्शन

चैतन्य भारत न्यूज

पूर्व प्रधानमंत्री राजीव गांधी के जन्म दिवस को सद्भावना दिवस के रूप में हर साल 20 अगस्त को मनाया जाता है। सद्भावना मतलब एक दुसरे के प्रति अच्छी भावना रखना। राजीव गांधी भारत देश के एक युवा नेता एवं प्रधानमंत्री थे। इन्होने भारत देश के विकास के लिए अनेकों कार्य किए, इनकी सरकार का एक ही उद्देश्य था, कि देश के सभी जाति धर्म के लोग एक दुसरे से प्यार करे, एक दुसरे के प्रति अच्छी भावना रखें।

सद्भावना दिवस प्रतिज्ञा

सद्भावना दिवस के मौके पर सभी देशवासी प्रतिज्ञा लेते है। यह प्रतिज्ञा कांग्रेस पार्टी के समारोह में ली जाती है। इस प्रतिज्ञा में बोला जाता है कि देश का हर एक नागरिक जाति, धर्म, क्षेत्र एवं भाषा को न देखते हुए, इंसानियत को सबसे उपर रखेगा और एक दुसरे से अपने समान प्यार करेगा। साथ ही भारत के संविधान की रक्षा करते हुए, सभी धर्मों के बीच की दूरियों को कम करने में प्रयासरत रहेगा।

सद्भावना दिवस समारोह

सद्भावना दिवस पर भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस पार्टी के द्वारा विशेष आयोजन होता है। देश भर में पार्टी सदस्य अपने पूर्व नेता राजीव गांधी को श्रधांजलि देते है, उन्हें श्रद्धा सुमन अर्पित करते है। उनकी फोटो पर माल्यार्पण किया जाता है, दीपक जलाकर उन्हें याद किया जाता है। दिल्ली में स्थित राजीव गाँधी के समाधी स्थल वीरभूमि में राजीव गांधी का पूरा परिवार, करीबी मित्र, रिश्तेदार और कांग्रेस पार्टी के मुख्य लोग इक्कठे होते है, इसके अलावा देश के और भी दूसरी पार्टी के प्रमुख नेता भी राजीव गांधी को श्रधांजलि देने के लिए वहां जाते है।

कैसे मनाया जाता है सद्भावना दिवस

सद्भावना दिवस के द्वारा राजीव गाँधी के द्वारा किये गए अविस्मरणीय प्रयास, राष्ट्र की प्रगति के कार्य, राष्ट्रीय और अंतरराष्ट्रीय परियोजनाओं में उनके अभूतपूर्व योगदान को याद किया जाता है। यह दिन राष्ट्रीय प्रगति के उनके जुनून को पूरा करने के लिए मनाया जाता है।

राजीव गांधी नेशनल सद्भावना अवार्ड

एक भारतीय पुरस्कार है, जो सांप्रदायिक सद्भाव, राष्ट्रीय एकता और शांति को बढ़ावा देने की दिशा में उल्लेखनीय योगदान के लिए दिया जाता है। यह पुरस्कार भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस पार्टी के अखिल भारतीय कांग्रेस समिति द्वारा शुरू किया गया था, 1992 में पूर्व प्रधानमंत्री राजीव गांधी द्वारा दिए गए योगदान को स्थाई बनाने के लिए इस पुरुस्कार की शुरुवात हुई थी, सबसे पहले पुरुस्कार के तौर पर 5 लाख की राशी वितरित की गई थी। तब से अब तक हर साल सद्भावना दिवस के मौके पर सद्भावना अवार्ड का फंक्शन रखा जाता है। यह अवार्ड अब इन लोगों को मिल चुका है –

  • मदर टेरेसा
  • सुनील दत्त
  •  लता मंगेशकर
  • उस्ताद बिस्मिलाह खान
  •  के आर नारायण
  • जगन नाथ कॉल
  • दिलीप कुमार
  • मौलाना वहिद्दुनी खान
  • कपिला वात्स्यानन
  •  मोहम्मद युनुस
  • हितेश्वर सैकिया और सुभद्रा जोशी (संयुक्त रूप में)
  •  निर्मला देशपांडे
  • तीस्ता सीतलवाड़ और हर्ष मंडेर (संयुक्त रूप में)
  • एस एन सुब्बाराव, स्वामी अग्निवेश और मदारी मोईदीन (संयुक्त रूप में)
  • एन राधाकृष्णन
  • डी.आर.मेहता
  •  हेम दत्ता
  • मुजफ्फर अली
  • स्पिक मैके
  • गौतम भाई
  • अमजद अली खान

Related posts