सतनाः मासूम बच्चों के शव लाए चित्रकूट, शहर में तनाव, धारा 144 लागू

चैतन्य भारत न्यूज।

सतना। 12 फरवरी को चित्रकूट में स्कूल बस रोककर मासूमों का अपहरण करने वाले बदमाशों ने फिरौती की रकम लेने के बाद भी निर्मम हत्या कर शव नदी में फेंक दिए। बताया जा रहा है कि बच्चों ने बदमाशों को पहचान लिया था, अपनी पहचान छुपाने के लिए उन्होंने बच्चों के हाथ बांधकर उन्हें नदी में फेंक दिया। बांदा के बबेरू में यमुना नदी के घाट पर दोनों के शव मिले। सतना एसपी ने इसकी पुष्टि की है। मामले में पुलिस ने 6 लोगों को गिरफ्तार किया है, इसमें 5 चित्रकूट के ग्रामोदय विश्वविद्यालय के छात्र बताए जा रहे हैं।

मासूम प्रियांश (6) और श्रेयांश (6)  का शव दोपहर करीब 3 बजे घर लाया गया, इसके बाद अंतिम संस्कार के लिए परिजन उन्हें लेकर रवाना हुए।

ये भी पढ़े…

चित्रकूट अपहरण/हत्याः मुख्यमंत्री कमलनाथ ने परिजनों से की फोन पर बात, बोले करेंगे कड़ी कार्रवाई

चित्रकूट में तनाव के हालात

घटना से लोगों में आक्रोश है।  चित्रकूट में प्रदर्शन हो रहे हैं, यहां धारा 144 लागू की गई है। लोग सड़कों पर आकर प्रदर्शन कर रहे हैं। इलाके में बड़ी संख्या में पुलिस फोर्स तैनात की गई है। जानकी कुंड इलाके में लोगों ने जाम लगाकर पुलिस और सद्गुरु सेवा ट्रस्ट के खिलाफ नारेबाजी की। पूरे इलाके में दो से तीन हजार की संख्या में लोग जुटे हैं। कुछ जगहों पर तोड़फोड़ की घटनाएं भी हुईं।

भीड़ को काबू करने पुलिस ने आंसू गैस के गोले फेंके। इसमें स्थानीय लोग और दर्शनार्थी भी घायल हुए हैं। पूरा बाजार बंद है, वहीं यात्री बसें और ऑटो भी एक-दो ही चल रहे हैं।

 

 

Related posts