सावन के अंतिम सोमवार को बन रहा है ये विशेष योग, इस विधि से पूजा कर भगवान शिव को करें प्रसन्न

sawan ka antim somvar,sawan ka antim somvar puja vidhi,bhagwan shiv,som pradosh vratsom pradosh vrat puja vidhi,

चैतन्य भारत न्यूज

12 अगस्त यानी आज सावन का अंतिम सोमवार है। आज के दिन सोम प्रदोष व्रत भी है। मान्यता है कि सावन के अंतिम सोमवार को शिव-पार्वती साथ-साथ पृथ्वी पर विचरण करते हैं। कहा जाता है कि इस दिन रुद्राभिषेक करने से सारे मनोरथ सफल होंगे।

sawan ka antim somvar,sawan ka antim somvar puja vidhi,bhagwan shiv,som pradosh vratsom pradosh vrat puja vidhi,

इस साल सावन में कुल चार सोमवार हुए जिनमें बीते तीन सोमवार कई महत्वपूर्ण योग के साथ आए थे। ठीक इसी तरह सावन का अंतिम सोमवार भी एक विशेष संयोग के साथ समाप्त हो रहा है। दरअसल इस दिन त्रयोदशी तिथि होने से सोम प्रदोष व्रत का संयोग बना है जो भगवान शिव को अत्यंत प्रिय है। आइए जानते हैं सोम प्रदोष व्रत का महत्व और पूजा-विधि।

sawan ka antim somvar,sawan ka antim somvar puja vidhi,bhagwan shiv,som pradosh vratsom pradosh vrat puja vidhi,

सावन सोमवार का महत्व

शास्त्रों के मुताबिक, जो भी भक्त सावन के महीने में पड़ने वाले सोमवार की पूजा सच्चे मन से करते हैं, भगवान शिव उनकी हर मनोकामना पूरी करते हैं। कहा जाता है कि सावन के महीने में भगवान शिव अधिक प्रसन्न रहते हैं। इस महीने में शिवलिंग की पूजा करने से भक्तों को सुख, शांति और समृद्घि की प्राप्ति होती है। सावन में भगवान शिव की भक्तों पर खास कृपा होती है।

sawan ka antim somvar,sawan ka antim somvar puja vidhi,bhagwan shiv,som pradosh vratsom pradosh vrat puja vidhi,

सावन सोमवार व्रत की पूजा-विधि

  • सुबह स्नान कर स्वच्छ कपड़े धारण करने के बाद शिव मंदिर जाएं।
  • शिवलिंग पर बेलपत्र, धतूरा, अक्षत, सफेद फूल, धूप, सफेद चंदन आदि अर्पित करें।
  • पूजा के दौरान शिव चालिसा का पाठ करें।
  • इस दिन व्रत का संकल्प करके केवल फलाहार करना चाहिए।
  • अंतिम सोमवार के दिन शिवलिंग को शुद्धजल, गंगाजल, दूध, दही, घी, शहद और शक्कर से अभिषेक करें।
  • मान्यता है कि भगवान शिव के पास धूप-दीप जलाकर शिव मंत्रों का जप करने से समस्त बाधाओं का नाश होता है।

ये भी पढ़े…

साप्ताहिक राशिफल : जानिए कैसा बीतेगा सावन महीने का आखिरी सप्ताह

रक्षाबंधन 2019 : इस बार बेहद खास रहेगा रक्षाबंधन, जानिए शुभ मुहूर्त

रक्षाबंधन 2019 : भाई को बांधे विशेष वैदिक राखी, जानिए इसका महत्व और बनाने की विधि 

Related posts