नहीं होगा 100 फीसदी ईवीएम का वीवीपैट से मिलान, सुप्रीम कोर्ट ने याचिका को कहा ‘बकवास’

evm and vvpat,supreme court

चैतन्य भारत न्यूज

सुप्रीम कोर्ट ने मंगलवार को 100 फीसदी ईवीएम का वीवीपैट से मिलान की मांग करने वाली याचिका को खारिज कर दिया। सुप्रीम कोर्ट ने इस याचिका को बकवास करार देते हुए कहा कि, यदि इस मामले में दखल दिया गया तो इससे लोकतंत्र को नुकसान होगा। साथ ही कोर्ट ने ये भी कहा कि, एक ही मांग बार-बार नहीं सुन सकते हैं। लोग खुद अपनी सरकार चुनते हैं इसलिए कोर्ट इसके आड़े नहीं आएगा।

दरअसल, चेन्नई के टेक फॉर ऑल नामक एक एनजीओ ने सुप्रीम कोर्ट में याचिका दाखिल की थी। इस याचिका में कहा गया था कि तकनीकी तौर पर वीवीपैट से जुड़ी ईवीएम सही नहीं हैं। इसके जवाब में सुप्रीम कोर्ट ने कहा कि, ‘आप न्यूसेंस क्रिएट कर रहे हैं।’ सुप्रीम कोर्ट ने आगे कहा कि, ‘इस मामले पर पहले ही मुख्य न्यायाधीश की बेंच फैसला दे चुकी है फिर आप इस मामले को वेकेशन बेंच के सामने क्यों उठा रहे हैं?’

गौरतलब है कि, इससे पहले 7 मई को भी सुप्रीम कोर्ट में ईवीएम और वीवीपैट की पर्चियों के मिलान को लेकर सुनवाई हुई थी। इस दौरान विपक्ष द्वारा दाखिल की गई याचिका को भी सुप्रीम कोर्ट ने खारिज कर दिया था। दरअसल, विपक्ष ने मांग की थी कि, 50 फीसदी वीवीपैट पर्चियों की ईवीएम से मिलान का आदेश चुनाव आयोग को दिया जाए। फिर कोर्ट ने याचिका को खारिज करते हुए कहा था कि, अदालत इस मामले को बार-बार नहीं सुनेगी।

ये भी पढ़े… 

सुप्रीम कोर्ट का फैसलाः लोकसभा चुनाव में 5 बूथों पर ईवीएम और वीवीपैट का करें मिलान

इस बार देर से आएंगे लोकसभा चुनाव के नतीजे, ये है वजह

21 विपक्षी पार्टियों की याचिका पर सुप्रीम कोर्ट ने चुनाव आयोग को नोटिस जारी कर मांगा जवाब

Related posts