वैज्ञानिकों ने की आकाशगंगा में नए ब्लैक होल की खोज, सूर्य से 70 गुना बड़ा है आकार

black hole

चैतन्य भारत न्यूज

नई दिल्ली. ब्रह्मांड कई तरह के अजूबों और चमत्कारों से भरा है। आए दिन इन अजूबों के खुलासे होते रहते हैं। अब अंतरिक्ष वैज्ञानिकों ने आकाशगंगा में एक ब्लैकहोल को खोज निकाला है। जानकारी के मुताबिक, यह ब्लैक होल आकार में सूरज से करीब 70 गुना ज्यादा बड़ा है।



बता दें सूर्य हमारी धरती से 13 लाख गुना ज्यादा बड़ा है। वैज्ञानिकों के मुताबिक, जितना हमारे पूरे सौर मंडल का कुल वजन है, उसका 99.8% अकेले सूरज का ही वजन है। ब्लैक होल अंतरिक्ष का वो हिस्सा होता है, जहां भौतिक विज्ञान का कोई नियम काम नहीं करता। इसका गुरुत्वाकर्षण क्षेत्र बहुत शक्तिशाली होता है। हमारी आकाशगंगा में कम से कम 10 करोड़ ब्लैकहोल होने की उम्मीद है। जानकारी के मुताबिक, ब्लैक होल का निर्माण बड़े-बड़े तारों में विस्फोट होने से होता है। ब्लैक होल इतने घने होते हैं कि इनसे प्रकाश भी नहीं गुजर सकता।

साइंस जर्नल ‘नेचर’ में प्रकाशित लेख के मुताबिक, अंतरिक्ष वैज्ञानिकों ने इस बार जिस ब्लैक होल को खोजा है, उसे LB-1 नाम दिया गया है। LB-1 से पृथ्वी की दूरी 15 हजार प्रकाश वर्ष है। नेशनल एस्ट्रोनॉमिकल ऑब्जर्वेटरी ऑफ चाइना के प्रोफेसर ली जीफेंग ने बताया कि, ‘वैसे तो आकाश गंगा में अनुमानित 100 मिलियन छोटे ब्लैक होल हो सकते हैं, लेकिन LB-1 जैसे आकार का ब्लैक होल होना थोड़ा चौंकाने वाला है।’

यूरोपीय अंतरिक्ष एजेंसी के खगोलविद और ब्लैक होल के विशेषज्ञ पॉल मैक्नमारा ने कहा कि, पिछले 50 सालों से भी ज्यादा समय से वैज्ञानिकों ने यह देखा कि हमारी आकाशगंगा के केंद्र में कुछ बहुत चमकीला है। पॉल के मुताबिक, ब्लैक होल के अंदर इतना ज्यादा मजबूत गुरुत्वाकर्षण है कि तारे इसकी परिक्रमा 20 साल में पूरी कर लेते हैं। जबकि हमारी सौर प्रणाली में आकाशगंगा की परिक्रमा करने में 23 करोड़ साल लग जाते हैं।

 

जानकारी के मुताबिक, साधारण तौर पर वैज्ञानिकों ने दो तरह के ही ब्लैक होल माने हैं। इनमें सूरज से आकार में 20 गुना बड़े ब्लैक होल ज्यादा पाए जाते हैं। जबकि आकार में सूरज से एक लाख गुना ज्यादा बड़े ब्लैक होल सिर्फ एक या दो ही हैं। वैज्ञानिकों का कहना है कि इस तरह के ब्लैक होल से कई साइंस-फिक्शन फिल्में बनाने की प्रेरणा मिल सकेगी। साथ ही इससे आने वाली पीढ़ी के लिए शोध सामग्री उपलब्ध हो सकती है।

ये भी पढ़े…

इसरो ने शुरू की मिशन चंद्रयान-3 की तैयारियां, अगले साल होगा लॉन्च

चंद्रयान-2 के ऑर्बिटर ने भेजी चांद की तस्वीर, इसरो ने बताया- चांद की मिट्टी में मौजूद कणों के बारे में पता लगा

चंद्रयान-2 : इसरो ने देशवासियों का किया शुक्रियाअदा, लैंडर विक्रम से संपर्क की उम्मीदें खत्म!

 

Related posts