सेहत और धन प्राप्ति के लिए शरद पूर्णिमा पर करें ये उपाय, मिलती है मां लक्ष्मी की विशेष कृपा

bhagwan vishnu, chandrama, chandrama kamjor hone ke lakshan, chandrama puja, kab hai sharad purnima

चैतन्य भारत न्यूज

हिंदू धर्म में शरद पूर्णिमा का अपना एक विशेष महत्‍व है। कहा जाता है कि शरद पूर्णिमा का व्रत रखने से सभी मनोकामनाएं पूरी होती हैं। शरद पूर्णिमा को कोजागरी पूर्णिमा के नाम से भी जाना जाता है। इस बार शरद पूर्णिमा 13 अक्टूबर को यानी आज है। इसी तिथि से शरद ऋतु का आरंभ होता है। चंद्रमा इस दिन संपूर्ण, सोलह कलाओं से युक्त होता है। मान्यताओं के मुताबिक इसी दिन मां लक्ष्मी का जन्म हुआ था, इसलिए धन प्राप्ति के लिए भी ये तिथि सबसे उत्तम मानी जाती है। लेकिन व्रत के दौरान कुछ खास नियमों का पालन करना होता है जो इस प्रकार है।



bhagwan vishnu, chandrama, chandrama kamjor hone ke lakshan, chandrama puja, kab hai sharad purnima

शरद पूर्णिमा पर बरतें ये सावधानियां

  • इस दिन पूर्ण रूप से जल और फल ग्रहण करके उपवास रखना चाहिए।
  • यदि आप उपवास न रख पाएं तो इस दिन सात्विक आहार ही ग्रहण करें तो ज्यादा बेहतर होगा।
  • कहा जाता है कि शरीर के शुद्ध और खाली रहने से आप ज्यादा बेहतर तरीके से अमृत की प्राप्ति कर पाएंगे।
  • इस दिन काले रंग का प्रयोग न करें, बल्कि चमकदार सफेद रंग के वस्त्र धारण करना चाहिए।

bhagwan vishnu, chandrama, chandrama kamjor hone ke lakshan, chandrama puja, kab hai sharad purnima

अच्छे स्वास्थ्य के लिए ये प्रयोग करें

  • पूजा के दौरान चंद्रमा के मंत्र “ॐ सोम सोमाय नमः” का जाप करें।
  • रात्रि के समय स्नान करके गाय के दूध में घी मिलाकर खीर बनाएं।
  • मध्य रात्रि में जब चंद्रमा पूर्ण रूप से उदित हो जाए तब चंद्रदेव की उपासना करें।
  • खीर को कांच, मिटटी या चांदी के पात्र में चंद्रमा की रोशनी में रखें और फिर सुबह इसे खाएं और सभी को प्रसाद के रूप में बांट दें।

bhagwan vishnu, chandrama, chandrama kamjor hone ke lakshan, chandrama puja, kab hai sharad purnima

अपार धन की प्राप्ति के लिए ये प्रयोग करें

  • रात्रि के समय मां लक्ष्मी के सामने घी का दीपक जलाएं।
  • पूजा के दौरान उन्हें गुलाब के फूलों की माला अर्पित करें।
  • सफेद मिठाई और सुगंध भी अर्पित करें।
  • इसके बाद मां के मंत्र “ॐ ह्रीं श्रीं कमले कमलालये प्रसीद प्रसीद महालक्ष्मये नमः” का कम से कम 11 बार जाप करें।

ये भी पढ़े…

शरद पूर्णिमा पर 30 साल बाद बन रहा है यह दुर्लभ संयोग, देवी की पूजा करने से मिलेगा सौभाग्य

जानिए कब है शरद पूर्णिमा? इसका महत्व, शुभ मुहूर्त और पूजा-विधि

13 अक्टूबर राशिफल : इन चार राशियों को मिलेगा विशेष लाभ, जानिए कैसा बीतेगा आपका रविवार

Related posts