इस दिन है षटतिला एकादशी, जानिए व्रत का महत्व और पूजन-विधि

shattila ekadashi,shattila ekadashi ka mahatava,shattila ekadashi pujan vidhi

चैतन्य भारत न्यूज

भगवान विष्णु और श्रीकृष्ण की पूजा को समर्पित षटतिला एकादशी का काफी महत्व है। मान्यता है कि षटतिला एकादशी का व्रत करने से सभी पापों का नाश होता है और साधक बैकुंठ धाम जाता है। इस बार षटतिला एकादशी 20 जनवरी को पड़ रही है। आइए जानते हैं षटतिला एकादशी का महत्व और पूजन-विधि।



shattila ekadashi,shattila ekadashi ka mahatava,shattila ekadashi pujan vidhi

षटतिला एकादशी का महत्व

हिंदू धर्म के मुताबिक, इस व्रत को करने से घर में सुख-शांति का वास होता है। मनुष्य को भौतिक सुख तो प्राप्त होता ही है, मृत्यु के बाद मोक्ष की प्राप्ति भी होती है। इस दिन की गई पूजा का विशेष महत्व है। माघ मास की कृष्ण पक्ष की एकादशी तिथि षटतिला एकादशी के नाम से लोकप्रिय है। इस दिन भगवान ​विष्णु और श्रीकृष्ण की आराधना विधिपूर्वक की जाती है। पूजा के समय काले तिल के प्रयोग का विशेष महत्व होता है।

shattila ekadashi,shattila ekadashi ka mahatava,shattila ekadashi pujan vidhi

षटतिला एकादशी पूजन-विधि

  • इस दिन सुबह जल्दी स्नान कर स्वच्छ कपड़ें धारण कर व्रत का संकल्प लें।
  • इसके बाद कुश के आसन पर बैठ कर ॐ नमो भगवते वासुदेवाय मंत्र का 108 बार जाप करना चाहिए।
  • इस दिन तिल से बने मिष्ठान किसी गरीब को दान करने से शुभ फल की प्राप्ति होती है।
  • पूजा के समय नारायण कवच का 3 बार पाठ करें ऐसा करने से मनोवांछित फल की प्राप्ति होती है।
  • मान्यता है कि माघ मास में जितना तिल का दान करेंगे उतने हजारों साल तक स्वर्ग में रहने का अवसर प्राप्त होता है।

ये भी पढ़े…

मनचाही सफलता के लिए रविवार को इस विधि से करें सूर्य देवता की पूजा

2020 में आने वाले हैं ये प्रमुख तीज त्योहार, यहां देखें पूरे साल की लिस्ट

आज है रवि प्रदोष का संयोग, इस विधि से पूजा करने पर बरसेगी भगवान शिव की कृपा

Related posts