शीतला अष्टमी व्रत आज, सुख-समृद्धि और रोगों से मुक्ति के लिए करें ये उपाय

sheetla shashthi,sheetla shashthi vrat

चैतन्य भारत न्यूज

हर महीने के कृष्ण पक्ष की अष्टमी तिथि को श्री शीतलाष्टमी के रूप में मनाया जाता है। इस बार शीतलाष्टमी 2 जुलाई, शुक्रवार को पड़ रही है। इस दिन माता शीतला के निमित्त व्रत कर उपासना करने का विधान है | इस दिन स्नान आदि के बाद विधि-पूर्वक देवी शीतला की पूजा-अर्चना करनी चाहिए।

आज माता को बासी भोजन का भोग लगाने का विधान है । साथ ही इस दिन बासी भोजन करने की भी परंपरा है | बता दूं कि देवी मां का स्वरूप अत्यंत कल्याणकारी है। गर्दभ पर विराजमान, दिगम्बरा, हाथ में झाडू तथा कलश धारण किये हुए, सूप से अलंकृत मस्तक वाली माता शीतला अपने भक्तों की सारी परेशानियों को दूर करती हैं, उन्हें हर प्रकार के भय और बीमारी से बचाकर रखती हैं, साथ ही लंबी आयु का वरदान देती हैं । लिहाजा देवी मां की कृपा से आप सबकुछ पाने की क्षमता हासिल कर सकते हैं।

अगर आपके जीवनसाथी को किसी प्रकार की परेशानी बनी हुई है तो उस परेशानी से छुटकारा पाने के लिये आज आपको अपने घर के बाहर पश्चिम दिशा में नीम का पेड़ लगाना चाहिए और उसकी नियमित रूप से देखभाल करनी चाहिए।
अगर आप अपनी दिन-दुगनी, रात-चौगनी तरक्की देखना चाहते हैं तो आज आपको शीतला माता के आगे घी का एक दीपक जलाना चाहिए और उनकी आरती का एक बार पाठ करना चाहिए।

अगर आप देवी भगवती की कृपा अपने ऊपर बनाये रखना चाहते हैं और उनकी कृपा से जीवन में सफलता पाना चाहते हैं तो आज आपको भगवती शीतला की वन्दना करनी चाहिए और उनके इस मंत्र का 11 बार जाप करना चाहिए। मंत्र इस प्रकार है-

वन्देऽहं शीतलां देवीं रासभस्थां दिगम्बराम्।।

मार्जनी कलशोपेतां सूर्प अलंकृत मस्तकाम्।।

Related posts