आज सीता अष्टमी व्रत, पति की लंबी उम्र के लिए इस विधि से करें सीता माता की पूजा

janki jayanti 2020,janki jayanti 2020 ka mahatava

चैतन्य भारत न्यूज

हर साल फाल्गुन मास के कृष्ण पक्ष की अष्टमी को मनाई जाने वाली जानकी जयंती इस साल 06 मार्च को मनाई जाएगी। इसे सीता जयंती और सीता अष्टमी के नाम से भी जाना जाता है। इस दिन माता सीता की विशेष रूप से पूजा की जाती है। आइए जानते हैं सीता अष्टमी का महत्व और पूजा-विधि।



janki jayanti 2020,janki jayanti 2020 ka mahatava

सीता अष्टमी का महत्व

इस दिन को माता सीता के जन्मोत्सव के रूप में मनाया जाता है। सीता अष्टमी के दिन सुहागन स्त्रियां अपने पति की लंबी उम्र के लिए माता सीता की पूजा-अर्चना करती है। मान्यता है कि इस दिन जो भी भक्त भगवान राम और माता सीता की श्रद्धा भाव से पूजा करता है उसकी हर मनोकामना पूर्ण होती है। साथ ही उसे सोलह महादान का फल और पृथ्वी दान का फल प्राप्त होता है। माता सीता राजा जनक की पुत्री थीं। इसलिए माता सीता को जानकी नाम से भी जाना जाता है।

janki jayanti 2020,janki jayanti 2020 ka mahatava

सीता अष्टमी पूजा-विधि

मान्यता है कि सीता अष्टमी व्रत पूजन की तैयारी एक दिन पहले से ही करनी चाहिए। यानि की सप्तमी के दिन से ही घर की साफ-सफाई करनी चाहिए। साफ-सफाई के बाद पूजा घर या किसी साफ स्थान पर गंगा जल का छिड़ककर उस स्थान को पवित्र कर दें। इसके बाद वहां मंडप बनाएं। मंडप चार, आठ या सोलह स्तंभ का होना चाहिए। पूजा के दौरान महिलाओं को ऊं श्री सीताय नम: मंत्र का जाप जरूर करना चाहिए। इस व्रत में जौ, चावल आदि सर्वधान्य की खीर का हवन किया जाता है और नैवेद्य अर्पित किया जाता है।

Related posts