चलती ट्रेन से दो साल की मासूम को बाहर फेंका, ऐसे बची जान

girl thrown from train,small girl,khandwa,train

चैतन्य भारत न्यूज

दो साल की बच्ची को मारने के लिए चलती ट्रेन से बाहर फेंक दिया, लेकिन बच्ची की किस्मत ने उसका साथ दे दिया और वह बच गई। घटना खंडवा से करीब 3 किमी दूर आबना नदी के पास की है। यहां किसी ने ट्रेन से दो साल की बच्ची को बाहर फेंक दिया। लेकिन बच्ची किस्मत में शायद और जीना लिखा था। करीब से 100 किमी प्रतिघंटे की रफ्तार से गुजरती ट्रेन और नीचे गहरी आबना नदी दोनों से बचकर बच्ची ब्रिज के बीच में फंस गई और इस तरह उसकी जान बच गई।

मंगलवार सुबह करीब 10 बजे चेकिंग के दौरान चाबीमैन सतीश प्रभाकर को खून में लथपथ हालत में बच्ची दिखी। इसके बाद उन्होंने तुरंत डायल 100 को कॉल किया। फिर वह डायल 100 के जरिये बच्ची को लेकर अस्पताल पहुंचे। जैसे ही अस्पताल प्रशासन को ये पता चला कि बच्ची के माता-पिता नहीं है तो फिर नर्सिग स्टाफ और अन्य मरीज ही बच्ची के परिजन बन गए। उन सभी ने मिलकर बच्ची का नाम ‘मिलू’ रखा। कई लोग बच्ची के लिए बिस्किट, कपड़े और खिलौने भी लेकर आए।

सतीश ने बताया कि, ‘मंगलवार सुबह करीब आठ बजे जब वह ब्रिज पर चेकिंग करने आए थे तो यहां कोई नहीं था। फिर वहां से एक ट्रेन गुजरी। उसी ट्रेन में से किसी ने बच्ची को फेंका है।’ सूत्रों के मुताबिक, अस्पताल में बच्ची को सबसे पहले फीमेल वार्ड में भर्ती कराया था। जब यहां महिलाओं को पता चला कि बच्ची का कोई नहीं है तो सभी उसके पास आकर मदद करने लगे। बच्ची के सिर में गंभीर चोट आई है। पुलिस ने बताया कि, बच्ची को ट्रेन से फेंका है या वह गिरी है, दोनों ही बिंदुओं पर अभी जांच की जा रही है। अब तक किसी ने भी बच्ची के ट्रेन से गिरने या गुम होने की शिकायत नहीं करवाई है।

Related posts