आज है स्नान दान पूर्णिमा, इस दिन व्रत को करने से मिलता है 32 गुना फल

snana purnima 2019,snana purnima ka mahatava,snana purnima pujan vidhi

चैतन्य भारत न्यूज

मार्गशीर्ष या अगहन माह को अति पवित्र और श्रेष्ठ माना गया है। पुराणों में इस महीने की पूर्णिमा को भी महत्वपूर्ण और फलदायी माना गया है। इस पूर्णिमा पर स्नान, दान और भगवान विष्णु की पूजा करने का विधान है। मान्यता है कि इस दिन किसी पवित्र नदी में स्नान कर के दान करने से पापों का नाश होता है। इस बार स्नान पूर्णिमा 12 दिसंबर गुरूवार को है। आइए जानते हैं स्नान पूर्णिमा का महत्व और पूजन-विधि।



snana purnima 2019,snana purnima ka mahatava,snana purnima pujan vidhi

स्नान पूर्णिमा का महत्व

जिस तरह कार्तिक, माघ, वैशाख की पूर्णिमा का विशेष महत्व गंगा स्नान करने से होता है। उसी प्रकार इस दिन स्नान करना अति शुभ एवं उत्तम माना गया है। मार्गशीर्ष माह की पूर्णिमा का आध्यात्मिक महत्व अधिक होता है। इस दिन व्रत रखकर भगवान विष्णु की पूजा और कथा करने से भी मनोकामनाएं पूर्ण होती हैं। मार्गशीर्ष पूर्णिमा पर गीता पाठ करने का भी महत्व है। इस दिन गीता पाठ करने से पितरों को तृप्ति प्राप्त होती है। स्नान पूर्णिमा पर दान का फल अन्य पूर्णिमा व दिनों की तुलना में 32 गुना अधिक प्राप्त होता है। इसलिए इसे बत्तीसी पूर्णिमा भी कहा जाता है।

snana purnima 2019,snana purnima ka mahatava,snana purnima pujan vidhi

स्नान पूर्णिमा की पूजा-विधि

  • पूर्णिमा पर सूर्योदय से पहले उठकर नहाएं अगर संभव हो तो किसी तीर्थ पर जाकर नहाएं।
  • सुबह व्रत का संकल्प लेकर दिनभर व्रत रखें।
  • मार्गशीर्ष पूर्णिमा पर भगवान सत्यनारायण की पूजा व कथा की जाती है।
  • पूजा स्थान पर भगवान को फूल, अर्पन, फल आदि चढ़ा कर पूजा करें।
  • इस दिन चंद्रमा की उपासना जरूर करना चाहिए।
  • इस दिन जरुरतमंद व्यक्ति और ब्राह्मण को भोजन कराए। इसके बाद दान-दक्षिणा देकर अपना व्रत खोलें।

ये भी पढ़े…

साल के आखिरी महीने में आने वाले हैं ये प्रमुख तीज त्योहार, यहां देखें पूरी लिस्ट

पाना चाहते हैं लक्ष्मी माता की कृपा, तो शुक्रवार को इस विधि से करें मां की पूजा-अर्चना

सुख, शांति और समृद्धि के लिए शुक्रवार को ऐसे करें मां संतोषी की पूजा

Related posts