मौत से पहले ही यहां के लोग कर रहे खुद का अंतिम संस्कार, बेहद दिलचस्प है वजह

Hyowon Healing Center,south koreans,funerals

चैतन्य भारत न्यूज

जीते जी किसी का अंतिम संस्कार करना या करवाना सुनकर आपको बहुत अजीब लग सकता है लेकिन दक्षिण कोरिया में जीवित रहते हुए भी लोग अपनी अंतिम संस्कार की प्रक्रिया से गुजर रहे हैं। वह जिंदगी को बेहतर ढंग से समझने के लिए मौत का अहसास कर रहे हैं।



Hyowon Healing Center,south koreans,funerals

जी हां… इसे ‘लिविंग फ्यूनरल’ नाम दिया गया है। यह एक हीलिंग कंपनी की पेशकश है। कंपनी का दावा है बड़ी संख्या में लोग स्वेच्छा से हमारे पास आ रहे हैं। खबरों के मुताबिक, साल 2012 में कंपनी Hyowon Healing Center ने ‘लिविंग फ्यूनरल’ यानी अंतिम संस्कार के नाम से एक प्रक्रिया शुरू की थी। जिसमें जीवित व्यक्ति अपनी मौत का एहसास करते हैं।

Hyowon Healing Center,south koreans,funerals

रिपोर्ट के मुताबिक, पिछले सात साल में करीब 25000 लोग जीवित रहते अंतिम संस्कार की प्रक्रिया से गुजर चुके हैं। उन्हें उम्मीद है कि जीवन खत्म होने से पहले मौत का एहसास करके वे अपनी जिंदगी को बेहतर बना सकते हैं।

क्या है ‘लिविंग फ्यूनरल’

कंपनी ने कहा कि, इस प्रक्रिया में 15 से 75 साल की उम्र तक के लोगों ने हिस्सा लिया। ये लोग करीब 10 मिनट तक एक बंद ताबूत में कफन ओढ़कर लेटे रहे। इससे पहले उनके अंतिम संस्कार की फोटो ली गईं और उन्होंने अपनी अंतिम इच्छा भी लिखी। इस दौरान वे सभी रस्में पूरी की जाती हैं, जो किसी व्यक्ति की असल मौत के वक्त होती हैं।

Hyowon Healing Center,south koreans,funerals

कैसा रहा लोगों का अनुभव

लिविंग फ्यूनरल से गुजर चुके 75 साल के चो जे-ही ने बताया कि, ‘एक बार जब आप मौत को महसूस कर लेते हैं तो उसे लेकर सचेत हो जाते हैं। तब आप जीवन में एक नया दृष्टिकोण अपनाते हैं।’ उन्होंने बताया कि, ‘ये एक मौत के कुंए के जैसा था। लेकिन जब आप एक इस कुंए से बाहर निकलते हैं, मृत्यु से अवगत हो जाते हैं और इसे अनुभव करते हैं। इसके बाद आपका जिंदगी जीने का नजरिया बदल जाता है।

Hyowon Healing Center,south koreans,funerals

Related posts