सेना भर्ती में फर्जीवाड़ा करने वाले रैकेट का एसटीएफ और मिलिट्री इंटेलिजेंस ने किया भंडाफोड़, दो फौजी समेत 4 गिरफ्तार

stf

चैतन्य भारत न्यूज

प्रयागराज. स्पेशल टास्क फोर्स (STF) की प्रयागराज यूनिट और मिलिट्री इंटेलिजेंस ने सेना में भर्ती कराने वाले एक रैकेट का भंडाफोड़ किया है। इस मामले में दो फौजी समेत चार लोगों को गिरफ्तार कर लिया गया है। आरोपियों के कब्जे से अभ्यर्थियों के एडमिट कार्ड, अन्य शैक्षणिक दस्तावेज, मोबाइल फोन, व्हाट्सएप चैट, भर्ती से संबंधित पैसों के लेनदेन की जानकारी के अलावा 2 लाख 75 हजार नकद भी बरामद किया है।



एसटीएफ और मिलिट्री इंटेलिजेंस ने योजना बनाकर रैकेट के चार सदस्यों को गिरफ्तार किया है। एसटीएफ को जानकारी मिली थी कि ये चारों अमेठी में चल रही भर्ती के सिलसिले में सेंट जोसेफ स्कूल के पास मिलने वाले हैं। फिर एसटीएफ की टीम इस संबंध में मिलिट्री इंटेलिजेंस टीम को सूचित कर उसे साथ लेकर मौके पर पहुंची, जहां 4-5 लोग आपस में पैसों और कागजातों का आदान-प्रदान कर रहे थे। इसी दौरान उन्हें दबोचा गया। एसटीएफ ने रविवार की रात में करीब पौने तीन बजे सिविल लाइंस थाने में चारों गिरफ्तार लोगों के खिलाफ मुकदमा दर्ज कराया।

प्रदीप सिंह व संजय पांडेय फौज में है

गिरफ्तार किए गए लोगों में दो गाजीपुर के रहने वाले हैं। इनमें नोनहरा का प्रदीप सिंह और कुशीनगर का संजय पांडेय फौज में हैं। इनके साथ ही कुशीनगर का मनीष भी पकड़ा गया है, जिसका फुफेरा भाई अजय यादव सेना में जोधपुर, राजस्थान में तैनात है। अजय ही इस गिरोह का सरगना है। चौथा पकड़ा गया आरोपी त्रिपति नाथ जौनपुर का रहने वाला है। एसटीएफ के मुताबिक, अजय ही लखनऊ स्थित जोनल रिक्रूटमेंट ऑफिस में अपनी सेटिंग के जरिए चतुर्थ श्रेणी के पदों पर भर्ती कराता था। अभ्यर्थियों से एक भर्ती के लिए तीन लाख रुपए तक लिए जाते थे। अजय और रिक्रूटमेंट ऑफिस लखनऊ के बाबू को अब तक पकड़ा नहीं गया है।

ये भी पढ़े… 

इंदौर एसटीएफ की बड़ी कार्रवाई : सोने के नकली सिक्के के नाम पर धोखाधड़ी करने वाले गिरोह का सरगना गिरफ्तार

लुटेरी दुल्हनों के गिरोह का भंडाफोड़, शादी के नाम पर लोगों को लगा चुके हैं करोड़ों की चपत, 6 गिरफ्तार

मानवता हुई शर्मसार : कैंसर मरीजों की मौत के बाद सड़क हादसा बता क्लेम वसूलने वाला गिरोह पकड़ा गया 

Related posts