इंदौर : एसटीएफ द्वारा मिलावटी खाद्य सामग्री के कारखाने पर छापेमारी, बनाई जा रही थी मिलावटी हींग

MILAWAT

चैतन्य भारत न्यूज

इंदौर. शहर में मिलावटी सामान की बिक्री धड़ल्ले से हो रही है। खासकर त्योहार के मौसम में बाजारों में ज्यादातर मिलावटी सामान बिक रहा है। मिलावटी खाद्य सामग्री तथा नकली सामान बेचने वालों के खिलाफ इंदौर में सोमवार को एसटीएफ द्वारा कारखाने पर छापेमारी की गई। इस कारखाने में मिलावटी हींग बनाई जा रही थी।



एसटीएफ की इंदौर इकाई के पुलिस अधीक्षक पद्मविलोचन शुक्ला ने बताया कि, एसटीएफ इकाई को मिलावटी खाद्य सामग्री बनाए जाने की सूचना प्राप्त हो रही थी। राज्य के मुख्यमंत्री कमलनाथ और काबीना मंत्री द्वारा भी खाद्य पदार्थों में मिलावट को रोकने के लिए निर्देश दिए गए थे। एसटीएफ इकाई इंदौर के निरीक्षक गोपाल सूर्यवंशी, सहायक उपनिरीक्षक अमित दीक्षित, प्रधान आरक्षक दीपक चाचर, जनक लाल पटेल, आरक्षक विवेक द्विवेदी और सुभाष कोठे की टीम को इसी दिशा में कार्रवाई करने के लिए बारदान मंडी पालदा नाका भेजा गया, जहां मिलावटी हींग बनाने का कारखाना संचालित हो रहा था।

 

टीम द्वारा पाया गया कि, रितिशा ट्रेडिंग कारपोरेशन के नाम से जितेंद्र शर्मा निवासी जानकीनगर, इंदौर द्वारा हींग बनाने का कारखाना संचालित किया जा रहा था। उनके द्वारा उस कारखाने में टॉपकिंग और पुष्पक ब्रांड की हींग तैयार की जा रही थी। इस कारखाने में मैदा राई की दाल, गोंद और हींग के एसेंस का उपयोग कर हींग को बनाया जा रहा था।’ कारखाने में मौजूद कारीगर चंपालाल से जब खाद्य पदार्थ का लाइसेंस मांगा गया तो उसके पास नहीं था, जिसके बाद फूड एवं सेफ्टी विभाग के निरीक्षकों को मौके पर बुलाकर इस अनहाइजीनिक तरीके से बनाई जा रही हींग पर कार्रवाई करने हेतु सहयोग लिया गया। फूड एवं सेफ्टी निरीक्षक श्री पुष्पक द्विवेदी सुभाष खेड़कर और उनके साथियों द्वारा खाद्य सामग्री के नमूने लेकर पंचनामा तैयार किया गया है और आवश्यक कार्रवाई की जा रही है।

जानकारी के मुताबिक, इस पूरी कार्रवाई के दौरान परिसर में इतनी तेज दुर्गंध आ रही थी कि वहां पर खड़े रहना और सांस लेना भी मुश्किल हो रहा था। बड़ी-बड़ी मशीनों से इस मिलावटी हींग को तैयार कर छोटी-छोटी प्लास्टिक के डिब्बों में भरकर पुष्पक और टॉप किंग नाम से पैकिंग की जा रही थी कुछ हींग को परिसर की छत पर खुले में सुखाया जा रहा था।

इस कार्रवाई के दौरान यह भी सामने आया कि इस फैक्ट्री के मालिक जितेंद्र शर्मा को पूर्व में पुष्प ब्रांड के मसालों द्वारा अच्छा सेल्स करने के लिए पुरस्कृत भी किया गया है इसी बात को ध्यान में रखते हुए उनके द्वारा पुष्पक नामक ब्रांड तैयार कर यह हींग बेची जा रही थी। टीम को मौके पर कई एक्सपायर तारीख की रबर सील, बोरों में भरी हुई हींग, खाली डिबिया, और छत पर सूखती हुई हींग पाई गई है।

Related posts