अब मेडिकल और बीटेक की पढ़ाई भी मातृभाषा में कर सकेंगे छात्र, जल्द जारी होगी नई शिक्षा नीति

mother tongue,

चैतन्य भारत न्यूज

नई दिल्ली. नई शिक्षा नीति में स्नातक तक सभी कोर्स की पढ़ाई मातृभाषा में होगी। इससे पहले शिक्षा नीति में उच्च शिक्षा में मातृभाषा शामिल नहीं थी। ऐसे में कई छात्र बीच में पढ़ाई छोड़ देते थे। सरकार ने बीच में पढ़ाई छोड़ने की समस्या को दूर करने के लिए शिक्षा का माध्यम अंग्रेजी और हिंदी के अलावा मातृभाषा को भी बनाया है।



कहा जा रहा है कि इसमें मेडिकल और इंजीनियरिंग सहित स्नातक स्तर के सभी पाठ्यक्रमों को शामिल किया गया है। साथ ही इन पुस्तकों को मातृभाषा में रूपांतरित किया जा रहा है। एक अधिकारी ने बताया कि उच्च शिक्षा में भी मातृभाषा का विकल्प होने पर छात्र उसे अपनी सुविधानुसार उसमें पढ़ाई कर सकेंगे। इसके अलावा भारतीय भाषाओं के लेखकों को भी प्रोत्साहन मिलेगा।

हिंदी या अंग्रेजी की अनिवार्यता नहीं

अधिकारी ने कहा कि, नई शिक्षा नीति के तहत स्नातक की पढ़ाई मातृभाषा में होगी। राज्य बीए, बीकॉम, बीएससी की पढ़ाई मातृभाषा में करवा सकेंगे। उच्च शिक्षा में ग्रॉस एनरोलमेंट रेशो करीब 27 फीसदी है। इसका मकसद 2023 तक 40 फीसदी करना है। उन्होंने बताया कि, स्कूली शिक्षा की किताबों को द्विभाषी किया जाएगा। इसमें छात्र को हिंदी या अंग्रेजी की अनिवार्यता नहीं रहेगी। वह अपनी सुविधानुसार मनपसंद भाषा में तैयार किताब से पढ़ाई कर सकेगा। साथ ही उसे एक से अधिक भाषाओं की जानकारी भी होगी।

अंतरराष्ट्रीय मातृभाषा दिवस

जानकारी के मुताबिक, मानव संसाधन विकास मंत्रालय और संस्कृति मंत्रालय 21 फरवरी को अंतरराष्ट्रीय मातृभाषा दिवस मनाएगा। इस दौरान उपराष्ट्रपति एम वेंकैया नायडू भी शामिल होंगे। साथ ही ज्ञानपीठ पुरस्कार व साहित्य अकादमी पुरस्कार प्राप्त लेखक को भी इस कार्यक्रम में शामिल किया जाएगा।

ये भी पढ़े…

मौलाना अबुल कलाम आजाद की याद में मनाया जाता है राष्ट्रीय शिक्षा दिवस जानिए उनसे जुड़ी कुछ खास बातें

सबसे ज्यादा बोली जाने वाली 5 भाषाओं में से एक हिंदी, जानें हिंदी से जुड़ी खास बातें

सुप्रीम कोर्ट जल्द ही हिंदी समेत 6 क्षेत्रीय भाषाओं में उपलब्ध कराएगा फैसले की कॉपी

Related posts