आचार संहिता के बाद सुमित्रा महाजन ने इंदौर पुलिस की गाड़ियां और सुरक्षाकर्मी राज्य सरकार को लौटाए

चैतन्य भारत न्यूज।

इंदौर। लोकसभा चुनाव का ऐलान होते ही देश में आचार संहिता लागू हो गई है। आदर्श आचार संहिता लागू होने के 6 दिन बाद लोकसभा अध्यक्ष सुमित्रा महाजन ने स्थानीय पुलिस (इंदौर पुलिस) की गाड़ियां और सुरक्षाकर्मियों को राज्य सरकार को वापस लौटा दिया है।

मुख्यमंत्री को लिखा पत्र

सुमित्रा महाजन ने मुख्यमंत्री कमलनाथ को पत्र लिखा है जिसमें कहा है कि ”आगामी लोकसभा चुनाव के कारण 10 मार्च को पूरे देश में आचार संहिता लागू हो गई है। मैंने उसी दिन से इंदौर में सरकारी गाड़ियों का उपयोग करना बंद कर दिया है, लेकिन अभी भी लोकसभा अध्यक्ष के संवैधानिक पद पर होने के कारण सुरक्षा गार्ड व पुलिस की गाड़ियां मेरी गाड़ी के साथ चल रही हैं”।

”संवैधानिक पद पर होने के नाते इंदौर में मेरे राजनैतिक कार्यक्रमों के अलावा अन्य कार्यक्रमों में जाने की सुविधा उपलब्ध कराने की जिम्मेदारी प्रोटोकॉल की होती है। उन्होंने कहा इंदौर जैसे शांत और सुरक्षित शहर में मुझे प्रोटोकॉल के तहत मिलने वाली इन गाड़ियों और सुरक्षाकर्मियों की आवश्यकता नहीं है। मैं आपको सूचित करना चाहूंगी कि मैं इन सभी सुविधाओं का त्याग रही हूं”।

”सुमित्रा महाजन ने ये भी कहा कि अभी न मेरी उम्मीदवारी घोषित हुई है, और न ही मैंने कोई चुनावी फॉर्म भरा है और न ही इंदौर लोकसभा चुनाव की अधिसूचना जारी हुई है। फिर भी मैं गाड़ियां और सुरक्षा व्यवस्था त्याग रही हूं”।

जेड प्लस श्रेणी की मिलती है सुरक्षा

गौरतलब है कि मप्र में लोकसभा अध्यक्ष सुमित्रा महाजन को प्रोटोकॉल के तहत जेड प्लस श्रेणी की सुरक्षा राज्य सरकार उपलब्ध कराती है।

1989 से इंदौर से सांसद हैं सुमित्रा महाजन

बता दें कि भारतीय जनता पार्टी के वरिष्ठ नेताओं में शामिल सुमित्रा महाजन लोकसभा में साल 1989 से इंदौर क्षेत्र की सांसद हैं।

Related posts