सुमित्रा महाजन का ऐलान- नहीं लड़ेंगी लोकसभा चुनाव, बोलीं-पार्टी को निर्णय लेने में संकोच

चैतन्य भारत न्यूज।

इंदौर। लोकसभा स्पीकर और इंदौर से 8 बार सांसद रह चुकीं सुमित्रा महाजन ने लोकसभा चुनाव लड़ने से इंकार कर दिया है। उन्होंने एक पत्र लिखकर कहा है कि बीजेपी ने अभी तक इंदौर में अपना उम्मीदवार घोषित नहीं किया है। भाजपा में उनके टिकट को लेकर असमंजस है और निर्णय लेने में दिक्कत हो रही है। इसलिए अब लोकसभा चुनाव नहीं लड़ूंगी। पार्टी को अब इंदौर सीट पर जल्द नाम तय करना चाहिए।

यह अनिर्णय की स्थिति क्यों

पत्र में सुमित्रा महाजन ने लिखा, ‘इंदौर से आज की तारीख तक उम्मीदवार घोषित नहीं किया है। यह अनिर्णय की स्थिति क्यों है? संभव है कि पार्टी को निर्णय लेने में कुछ संकोच हो रहा है। हालांकि मैंने पार्टी में वरिष्ठों से इस संदर्भ में बहुत पहले ही चर्चा की थी और निर्णय उन्हीं पर छोड़ा था। लगता है उनके मन में अब भी कुछ असमंजस है इसलिए यह घोषणा करती हूं कि अब मुझे लोकसभा का चुनाव नहीं लड़ना है।’

1989 से इंदौर की सांसद हैैं सुमित्रा महाजन

सुमित्रा महाजन को इस सीट से कभी निराशा नहीं मिली।1989 में उन्होंने यहां से पहला चुनाव लड़ा और  उसके बाद से लगातार वो यहां से सांसद हैं। 2014 के चुनाव में उन्होंने कांग्रेस के सत्यनारायण पटेल को 4 लाख से ज्यादा वोटों से हराया था।

इंदौर में 16 लोकसभा चुनावों में सिर्फ चार बार जीती कांग्रेस

बता दें इंदौर में 30 साल से भाजपा ने ही अपनी जीत दर्ज की है। अब तक हुए 16 लोकसभा चुनावों में यहां से कांग्रेस सिर्फ चार बार जीत सकी है। इंदौर लोकसभा सीट के तहत 8 विधानसभा क्षेत्र आते हैं। 2018 के विधानसभा चुनाव में मुकाबला बराबरी का था। भाजपा और कांग्रेस ने 4-4 सीटें जीती थीं।

इंदौर सीट पर अब तक घोषित नहीं किया प्रत्याशी

बता दें भाजपा मप्र की 29 लोकसभा सीटों में से 18 सीटों पर उम्मीदवारों का ऐलान कर चुकी है। इंदौर सीट पर अब तक निर्णय नहीं हुआ है।

Related posts