तपती गर्मी में भी खिली रहेगी सेहत, बड़े काम के हैं ये टिप्स

summer season tips,summer season skin tips,summer season health tips

चैतन्य भारत न्यूज 

भारत में गर्मी का मौसम चल रहा है। तेज धूप, उमस और वातावरण में गर्मी के एहसास से हर व्यक्ति के मुंह से ‘उफ्फ ये गर्मी’ तो सुनने में आ ही जाता है। लेकिन क्या आपको यह पता है कि आखिर यह गर्मी होती क्या है? दरअसल, भारत के ज्यादातर हिस्सों खासकर मैदानी इलाकों में बसंत ऋतु के बाद धीरे-धीरे तापमान बढ़ने लगता है। इसकी वजह यह है कि सूर्य के इर्द- गिर्द चक्कर लगाते समय पृथ्वी थोड़ा तिरछी रहती है। जो गोलार्द्ध सूर्य की तरफ झुका रहता है, वहां सूर्य की किरणें सीधी पड़ती हैं इसलिए वहां का मौसम गर्म होता है। भारत के संदर्भ में यह स्थिति मार्च से जून तक होती है, इसलिए तापमान बढ़ने लगता है।

तेज गर्मी से शरीर असहज महसूस करता है और इसीलिए लोग अकसर इसकी चर्चा करते हैं। गर्म हवाओं की स्थिति को लू कहते हैं और उत्तर भारत में यह स्थिति मई-जून में बनती है। जरा सी लापरवाही शरीर को नुकसान पहुंचा सकती है। गर्म हवाओं की वजह से व्यक्ति के शरीर पर बुरा असर पड़ सकता है इसलिए स्वास्थ्य पर ध्यान देने की जरूरत होती है। हम आपको आज कुछ ऐसी खास बातें बता रहे हैं जो आपको गर्मी के दुष्प्रभावों से बचाए रखने में मदद करेंगी-

खानपान का ध्यान

शरीर में ऊर्जा का होना सबसे ज्यादा महत्वपूर्ण होता है वरना तरह-तरह की मुश्किलें सामने आ सकती हैं। मौसम के हिसाब से ऊर्जा की जरूरत, उसका तरीका बदलता रहता है इसलिए गर्मी में ये उपाय अपनाए जा सकते हैं।

  • गर्मी में अत्यधिक पसीना निकलता है जिसके कारण शरीर में कई बार डिहाइड्रेशन (पानी की कमी) की समस्या परेशान करती है। इस मौसम में पानी के साथ-साथ नींबू पानी, नारियल पानी, दही और छाछ का सेवन अच्छी मात्रा में करना चाहिए। ये पेय पदार्थ हमारे शरीर में न केवल ठंडक पहुंचाते हैं, बल्कि शरीर में पानी की कमी भी नहीं होने देते।
  • गर्मी के मौसम में चाट-पकौड़ी या अन्य तेल व मसालेदार चीजें खाने से बचना चाहिए। इससे आपको फूड पॉइजनिंग या अन्य तरह की बीमारी हो सकती है क्योंकि इस मौसम में खाना दूषित भी जल्दी होता है। उसमें हानिकारक बैक्टीरिया जल्दी पनपते हैं। चिप्स, नमकीन, तेल व घी युक्त भोजन में थर्मल इफेक्ट होता है और ये आपक शरीर में गर्मी उत्पन्न करते हैं। संतुलन बनाए रखने की दृष्टि से इनका संतुलित उपयोग ही बेहतर है।
  • सॉफ्ट ड्रिंक्स या फिर कैफीन युक्त चीजों का सेवन गर्मी के मौसम में कम से कम करें। दरअसल, इन चीजों में रंग व शुगर की मात्रा भरपूर होती है। सॉफ्ट ड्रिंक्स की बात करें तो इसमें फॉस्फोरिक एसिड की मात्रा अधिक होती है जिसका सीधा प्रभाव पाचन तंत्र पर पड़ता है। ऐसे में शरीर से मिनरल्स की मात्रा भी कम हो सकती है।

मच्छरों से बचें

गर्मी के मौसम में सबसे ज्यादा परेशानी मच्छरों के कारण होती है। मच्छरों के काटने से डेंगू और मलेरिया जैसी बीमारी हो सकती हैं। इससे बचने के लिए आप अपने घर के आसपास पानी न जमने दें और साथ ही खिड़कियों और दरवाजों में जाली लगवाएं, ताकि मच्छर घर में प्रवेश न कर सकें। रात को सोते समय मच्छरदानी का प्रयोग भी जरूर करें।

त्वचा का ध्यान

गर्मी के मौसम में सबसे ज्यादा ध्यान त्वचा पर दिया जाना जरूरी है। दरअसल, चिलचिलाती धूप और धूल भरी हवा से हमारी त्वचा बेजान हो जाती है। इससे बचने के लिए आपको ये सावधानियां बरतनी होगी-

  • सूर्य से निकलने वाली अल्ट्रा वायलेट किरणें त्वचा पर सनबर्न और सनटैन जैसा खतरा पैदा करती हैं, इसलिए जब भी आप घर से बाहर जाएं तो सनस्क्रीन क्रीम या लोशन लगाएं और साथ ही अपने चेहरे को ढंकने के लिए स्कार्फ का इस्तेमाल करें।
  • गर्मी के मौसम में हमारी त्वचा नमी खो देती है। जिसके लिए पानी का सेवन बहुत जरूरी होता है। गर्मी में जितना ज्यादा हो सके पानी पीएं।
  • गर्मी के मौसम में दिनभर में तीन से चार- बार अपने चेहरे को ठंडे पानी से धोएं। दरअसल, ऐसा करने से चेहरे की चमक बढ़ती है।
  • त्वचा के साथ-साथ बालों का ध्यान रखना भी बहुत जरूरी है। नियमित रूप से आप शैम्पू से बालों की सफाई करें। साथ ही जब भी आप तेज धूप के संपर्क में आएं तो अपने सिर को स्कार्फ या दुपट्टे से जरूर ढंकें। नियमित रूप से बालों में तेल से मालिश करने से सिर की त्वचा (स्कैल्प) को स्वस्थ रखा जा सकता है।

गर्मियों में पहनें ऐसे कपड़े-

गर्मी के मौसम में सभी लोग ऐसे कपड़े पहनना चाहते हैं जो उन्हें राहत तो दें ही और साथ ही उन पर आकर्षक भी लगें। हम आपको गर्मी के मौसम में पहने जाने वाले उन खास कपड़ों की जानकारी दे रहे हैं जिसे पहनकर आप बीमारियों से बच सकते हैं-

  • गर्मी के मौसम में कभी भी सिल्क, साटन, नायलॉन या वेलवेट के कपड़े नहीं पहनने चाहिए, क्योंकि इनसे संक्रमण हो सकता है, इसलिए इस मौसम में आप कॉटन, शिफॉन, जॉरजट व हैंडलूम और खादी से बने कपड़े पहन सकते हैं। ये कपड़े आसानी से पसीना सोख लेते हैं और इससे त्वचा संबंधी संक्रमण होने का खतरा कम हो जाता है।
  •  जब भी आप दोपहर में घर से बाहर जाएं तो हमेशा ऐसे कपड़े पहने जो सूती हों और और फुल स्लीव्ज यानी पूरी बांह के हों ताकि इससे आप सीधे धूप के प्रकोप से बच सकें। आप चाहे तो रात के समय में स्लीवलेस पहन सकते हैं।
  • गर्मी के मौसम में हमेशा हेवी फेब्रिक के कपड़े पहनने से बचें क्योंकि इन्हें संभालना आपके लिए मुश्किल हो सकता है।
  • गर्मियों में कपड़ों का चुनाव करते समय उसके रंग पर खासतौर से ध्यान दें। इस मौसम में हमेशा हल्के रंग के ही कपड़े पहने क्योंकि इससे आपको गर्मी कम महसूस होगी और साथ ही ये आंखों को भी ठंडक प्रदान करेंगे।

Related posts