कोरोना से मरने वालों को 4 लाख मुआवजे पर सरकार ने SC में कहा- मामला पैसे का नहीं है, लेकिन मुआवजा नहीं दे सकते

Supreme Court

चैतन्य भारत न्यूज

काेराेना से जान गंवाने वाले लोगों के परिजनाें काे मुआवजा देने के मामले में केंद्र सरकार ने सुप्रीम काेर्ट में दूसरा हलफनामा दाखिल किया है। सरकार द्वारा इसमें कहा गया है कि, ये पैसे का मुद्दा नहीं है, लेकिन काेराेना से जान गंवाने वालाें के परिजनाें काे 4-4 लाख रुपए मुआवजा नहीं दे सकते। सरकार ने मुआवजा न देने के पीछे का तर्क संसाधनों का सही तरीके से उपयोग बताया है।

बता दें पिछली बार केंद्र की ओर से सुप्रीम कोर्ट में हलफनामा दाखिल कर बताया था कि अगर सबको 4-4 लाख रुपए दिए गए तो फंड की कमी हो जाएगी। लेकिन अब केंद्र ने दूसरा हलफनामा दाखिल कर बताया है कि पैसे की कमी नहीं है, लेकिन फिर भी मुआवजा नहीं दे सकते।

वहीं केंद्र सरकार द्वारा सुप्रीम कोर्ट में दाखिल दूसरे हलफनामे में केंद्र ने बताया कि, ‘पैसा का मुद्दा नहीं है, लेकिन कोरोना पीड़ितों को 4 लाख का मुआवजा नहीं दे सकते, क्योंकि संसाधनों का भी सही इस्तेमाल करना है। सरकार के खजाने और बाकी सभी संसाधनों के तर्कसंगत और विवेकपूर्ण इस्तेमाल का है।’

बता दें कोरोना से होने वाली मौतों पर 4 लाख रुपए मुआवजा देने की मांग को लेकर सुप्रीम कोर्ट में याचिका दायर हुई थी। मुआवजे को लेकर कोर्ट ने केंद्र से हलफनामा मांगा था। केंद्र की ओर से 19 जून को पहला हलफनामा दाखिल किया गया था, जिसके बाद कोर्ट ने दूसरा हलफनामा दाखिल करने को कहा। इस पर केंद्र ने शनिवार को दोबारा हलफनामा दाखिल किया।

Related posts