सुप्रीम कोर्ट ने फिर 24 घंटे के लिए टाला महाराष्ट्र पर फैसला, फडणवीस-अजित को मिली राहत

Supreme Court

चैतन्य भारत न्यूज

नई दिल्ली. महाराष्ट्र का राजनीतिक संकट खत्म होने का नाम ही नहीं ले रहा है। यह ‘सियासी संग्राम’ अब सुप्रीम कोर्ट तक पहुंच गया है। शिवसेना, एनसीपी और कांग्रेस ने दावा किया है कि उनके पास वो आंकड़ा मौजूद है जो महाराष्ट्र में सरकार बनाने के लिए जरूरी है। सोमवार को सुप्रीम कोर्ट में तीनों पार्टियों की याचिका पर सुनवाई हुई। जिसके बाद सुप्रीम कोर्ट ने महाराष्ट्र के संकट पर मंगलवार सुबह 10:30 बजे फैसला देने को कहा।


बता दें सोमवार को सुप्रीम कोर्ट में करीब 2 घंटे तक इस मामले में तीखी बहस हुई। कांग्रेस-एनसीपी-शिवसेना ने 24 घंटे के अंदर फ्लोर टेस्ट की मांग की, जबकि देवेंद्र फडणवीस-अजित पवार की ओर से इसके लिए कुछ समय मांगा गया। महाराष्ट्र भाजपा की तरफ से कोर्ट में पेश हुए मुकुल रोहतगी ने सुप्रीम कोर्ट में कहा है कि, ‘राज्यपाल ने फ्लोर टेस्ट के लिए 14 दिन का वक्त दिया है। प्रोटेम स्पीकर के बाद स्पीकर का चुनाव जरूरी है, लेकिन विपक्ष प्रोटेम स्पीकर से ही काम कराना चाहता है।’

महाराष्ट्र में BJP-NCP ने मिलकर बनाई सरकार, फडणवीस फिर बने मुख्यमंत्री, अजित पवार उप मुख्‍यमंत्री

वहीं एनसीपी-कांग्रेस का पक्ष रख रहे अभिषेक मनु सिंघवी ने कहा, ‘बीजेपी गठबंधन फ्लोर टेस्ट अभी नहीं चाहती। फ्लोर टेस्ट आज या कल में करा देना चाहिए। साथ ही फ्लोर टेस्ट सिक्रेट बैलट से नहीं कराया जाना चाहिए।’ सिंघवी ने कहा, ‘महाराष्ट्र में लोकतंत्र की हत्या हुई है। हमारी मांग है कि 24 घंटे के अंदर फ्लोर टेस्ट कराया जाए। हमारे पास 7 निर्दलीय विधायकों का भी हलफनामा है।’ उन्होंने यह भी दावा किया कि, ‘बीजेपी फ्लोर टेस्ट हारेगी ही।’

एक रात में महाराष्ट्र में ऐसे बनी फडणवीस सरकार, पर्दे के पीछे यूं तैयार किया सरकार बनाने का प्लान

शिवसेना का पक्ष रखते हुए वकील कपिल सिब्बल ने कहा कि, ‘देश मे ऐसी क्या राष्ट्रीय विपदा आ गयी थी कि सुबह 5 बजे राष्ट्रपति शासन हटा और 8 बजे मुख्यमंत्री की शपथ भी दिलवा दी गई।’ उन्होंने यह भी कहा कि, ‘महाराष्ट्र में अवैध तरीके से सरकार बनाई गई है।’

ये भी पढ़े…

महाराष्ट्र : शिवसेना नेता संजय राउत बोले- भतीजे ने चाचा को धोखा दिया, अजित पवार ने अंधेरे में डाका डाला

महाराष्ट्र सरकार : अजित पवार ने पार्टी को तोड़ने का काम किया, यह NCP का फैसला नहीं : शरद पवार

महाराष्ट्र सरकार पर सुप्रीम कोर्ट का केंद्र, मुख्यमंत्री और उप-मुख्यमंत्री को नोटिस

Related posts