अब अपनी छवि सुधारने में लगा तालिबान, बोला- महिलाओं को भी बनाएंगे सरकार का हिस्सा

चैतन्य भारत न्यूज

काबुल. अफगानिस्तान में तालिबान के संपूर्ण कब्जे के बाद से दहशत का माहौल बना हुआ है। कई लोग बिना सामान लिए देश छोड़कर भाग रहे हैं और कई लोग घर में दुबके पड़े हैं और इस कारण से देश में काम-काज ठप्प पड़े हैं। ऐसे में अब तालिबानियों के लिए भी मुश्किलें खड़ी हो रही हैं। इसलिए अब तालिबानी अधिकारी यहां के सरकारी कर्मचारी से काम पर लौटने की अपील कर रहे हैं। इतना ही नहीं उन्होंने महिलाओं को भी सरकार का हिस्सा बनने को कहा है। अफगान स्टेट टीवी को दिए एक साक्षात्कार में तालिबान अधिकारी ने यह भी कहा कि  हम महिलाओं को शिकार नहीं बनाना चाहते बल्कि सरकार में रहने की अपील करते हैं। उन्होंने कहा कि देश के युवा भी आगे आएं, हम उन्हें काम करने की पूरी आजादी देंगे। उन्होंने महिलाओं को सुरक्षा का भी भरोसा दिया।

काबुल में समावेशी सरकार बनाने पर चल रही है चर्चा

एक अधिकारी ने बताया कि काबुल में समावेशी सरकार बनाने पर चर्चा हो रही है। इस चर्चा में कभी देश की वार्ता परिषद की अध्यक्षता करने वाले अब्दुल्ला अब्दुल्ला और पूर्व राष्ट्रपति हामिद करजई शामिल हैं। वहीं चल रही वार्ता का मकसद सरकार में गैर तालिबानी नेताओं को भी शामिल करना है।

भरोसे के बावजूद लोग घर से निकलने से डर रहे

इन भरोसे के बावजूद लोग घर से बाहर निकलने से कतरा रहे हैं। दिल्ली में रह रहे एक अफगान युवा ने कहा कि अफगानिस्तान में युवाओं की जान हमेशा खतरे में रहती है, खासकर युवा महिलाओं की। तालिबान आतंकवादी घरों में घुस जाते हैं, और वे युवा महिलाओं को जबरदस्ती ले जाते हैं। यह पिछले कई सालों से हो रहा है लेकिन सरकार चुप रही। उन्होंने यह भी दावा किया कि सैकड़ों महिलाएं जो युद्ध से बचने के लिए अपने गांव छोड़कर अफगानिस्तान की राजधानी काबुल के शहर-ए-नवा पार्क में शरण ली थीं, लापता हो गई हैं।

Related posts