हिंदू लड़की को मुस्लिम बहू दिखाने पर विवादों में आया तनिष्क का विज्ञापन हटाया गया, लव जिहाद के समर्थन का लगा था आरोप

चैतन्य भारत न्यूज 

त्योहारी सीजन को देखते हुए टाटा समूह के मशहूर ज्वेलरी ब्रांड तनिष्क ने अपने प्रमोशन के लिए नया विज्ञापन जारी किया, लेकिन यह उसके लिए परेशानी का कारण बन गया।  यह विज्ञापन हिंदू लड़की और मुस्लिम लड़के की शादी पर आधारित है। विज्ञापन को लेकर ब्रांड को सोशल मीडिया पर बुरी तरह से लोगों के गुस्सा का शिकार होना पड़ा। इसके बाद मंगलवार को कंपनी ने विज्ञापन को हटाने का फैसला लिया।

तनिष्क ने क्या कहा

कंपनी ने बयान जारी करते हुए कहा कि, उसके एकात्म अभियान के पीछे का विचार इस चुनौतीपूर्ण समय के दौरान विभिन्न क्षेत्रों के लोगों, स्थानीय समुदायों और परिवारों को एक साथ आकर जश्न मनाने के लिए प्रेरित करना था। कंपनी ने सफाई में ये भी कहा कि, विज्ञापन जनमानस को खुशहाली का मौका देने के बजाए मूल उद्देश्य से भटक गया। ए़ड फिल्म ने अपने उद्देश्य के विपरीत, लोगों की नाराजगी बढ़ाई जिससे हमें गंभीर प्रतिक्रियाओं का सामना करना पड़ा। प्रमोशनल एडवर्टाइजिंग के जरिए हम सिर्फ एकता का संदेश देना चाहते थे। हमारा मकसद किसी भी विशेष धर्म या समुदाय की भावना को ठेस पहुंचाने का नहीं है। अगर इस ऐड से किसी की भावना आहत हुई है तो हमें खेद है। हम अपने ऐड को वापस ले रहे हैं।

क्या है इस विज्ञापन में ?

तनिष्क के इस प्रमोशनल ऐड में एक हिंदू लड़की को मुस्लिम परिवार  की बहू के रूप में दिखाया गया है। हिंदू लड़की की मुस्लिम के घर में शादी हुई है और उसकी गोदभराई यानी बेबी शावर के फंक्शन को दिखाया गया है। इसमें हिंदू रीति-रिवाज को ध्यान में रखते हुए मुस्लिम परिवार सभी तरह के रस्मो-रिवाज हिंदू धर्म के हिसाब से करती है। विज्ञापन के अंत में वह गर्भवती महिला अपनी सास से पूछती है, ‘मां ये रस्म तो आपके घर में होती भी नहीं है न?’ इस पर उसकी सास जवाब देती है, ‘पर बिटिया को खुश रखने की रस्म तो हर घर में होती है न?’ वीडियो में हिंदू-मुस्लिम परिवार को एकजुट दिखाने की कोशिश की गई है।

विज्ञापन लव जिहाद को बढावा देने जैसा

सोशल मीडिया पर भी यह विज्ञापन बहस का मुद्दा बन गया है और लोग इसके बारे में कई तरह की बात कर रहे हैं। कोई इसे लव जिहाद को बढ़ावा देने वाला बता रहा है तो कोई एंटी- हिंदू। लोगों का कहना है कि किसी भी धर्म या जाति के बिना कोई विज्ञापन तैयार क्यों नहीं किया जाता।


 

 

 

Related posts