ताऊ ते चक्रवात: समुद्र से अब तक 60 शव बरामद, 26 लोग अब भी लापता, तलाश के लिए ‘साइड स्कैन सोनार’ सिस्टम कर रहा मदद

चैतन्य भारत न्यूज

17 मई को अरब सागर में आए चक्रवाती तूफान ताऊ ते के बाद पानी में डूबे जहाज P-305 पर सवार 261 में से 13 लोगों की तलाश आज भी जारी है। साथ ही टगबोट नौका वाराप्रदा के 11 कर्मी अब भी लापता हैं। इनका पता लगाने के लिए नौसेना ने शनिवार को मुंबई अपतटीय क्षेत्र में विशेष गोताखोर टीमों को तैनात कर दिया।

नौसेना के एक प्रवक्ता ने ट्वीट किया, ‘बजरा पी305 और नौका वाराप्रदा के लापता चालक दल को खोजने के लिए चल रहे खोज एवं बचाव अभियान को बढ़ाने के लिए साइड-स्कैन सोनार के साथ आईएनएस मकर और आईएनएस तरासा पर सवार होकर विशेष गोताखोर टीम आज सुबह मुंबई से रवाना हुईं।’

जिंदा बचने की उम्मीद कम

सोमवार को अरब सागर में बजरा पी305 के डूबने से मरने वालों की संख्या 11 और शवों की बरामदगी के साथ शुक्रवार को 60 तक पहुंच गई, जबकि नौसेना और तटरक्षक बल ने बजरे से 15 और वाराप्रदा से 11 लापता कर्मियों की तलाश जारी रखी। हालांकि, 80 घंटे से ज्यादा का समय बीत जाने के बाद अब इन सभी के जिंदा बचे होने की संभावना धुंधली पड़ती नजर आ रही हैं।

‘साइड स्कैन सोनार’ से आज हो रही तलाशी

बचे हुए लोगों को तलाशने के लिए ‘साइड स्कैन सोनार’ और INS तरासा के साथ INS मकर के गोताखोर लगाए गए हैं। P-305 के लापता क्रू मेंबर्स में जहाज के कप्तान राकेश बल्लभ भी शामिल हैं। ये तूफान के आने के बाद समुद्र में कूद गए थे। इन पर जानबूझकर बार्ज पर मौजूद लोगों की जान आफत में डालने का आरोप है।

ऐसे काम करता है ‘साइड स्कैन सोनार’

समुद्र में विजिबिल्टी कम हो जाने के बाद एक बड़े क्षेत्र में तलाशी के लिए ‘साइड स्कैन सोनार’ का इस्तेमाल किया जाता है। हाई रेजोल्यूशन वाले इस सोनार सिस्टम से समुद्र तल पर पड़ी चीजों की स्पष्ट तस्वीर प्राप्त की जा सकती है। खोजी जा रही वस्तु की पहचान के बाद गोताखोर वहां जाकर उस वस्तु या व्यक्ति को रेस्क्यू कर सकती है।

Related posts