फैसलों में दखल से परेशान जज ने भरी अदालत में खुद को मारी गोली

shot himself,khanakorn pianchana

चैतन्य भारत न्यूज

बैंकॉक. थाईलैंड से एक सनसनीखेज घटना सामने आई है। यहां एक जज ने लोगों से खचाखच भरी अदालत में अपने सीने में गोली मार ली। जज के इस बड़े कदम के पीछे की वजह बेहद चौंकाने वाली है। खुदकुशी की कोशिश करने वाले जज खनाकोर्न पियांचना ने फेसबुक लाइव में वरिष्ठ जजों पर अपने फैसले में दखलंदाजी का आरोप लगाते हुए कहा कि, ‘मैं अपने कर्तव्यों के खिलाफ काम नहीं कर सकता। इसके बजाय मैं मर जाना पसंद करूंगा।’



shot himself,khanakorn pianchana

पियांचना बैंकॉक में याला के दक्षिणी प्रांत की एक अदालत में जज के पद पर पदस्थ हैं। शुक्रवार को अदालत में पांच अभियुक्तों को किसी मामले में बरी कर दिया। इसी दौरान जज ने कोर्टरूम में खुद के सीने में गोली मार ली। हालांकि उन्हें बचा लिया गया। सोशल मीडिया पर 25 पन्नों की एक पोस्ट वायरल हो रही है, जिसे पियांचना का लिखा बताया जा रहा है।

इसमें लिखा है कि वे निष्पक्ष फैसले लेने के लिए स्वतंत्र नहीं थे। सीनियर अधिकारी उनके फैसलों में दखल दे रहे थे। इसके अलावा सोशल मीडिया पर एक वीडियो भी वायरल हो रहा है जिसमें भी सीनियर अधिकारियों पर आरोप लगाए गए हैं। वहीं, अदालत के प्रवक्ता ने कहा कि, पियांचना ने निजी कारणों से खुदकुशी की कोशिश की। लेकिन कुछ कानूनविद मानते हैं कि पियांचना के आरोप सही हैं।

shot himself,khanakorn pianchana

वहीं पियांचना का कहना है कि, ‘यह बात साफतौर पर समझना चाहिए कि अगर किसी के खिलाफ सबूत हैं तो उसे सजा मिलनी ही चाहिए। यदि ऐसा नहीं है और आप (जज) निश्चित भी नहीं हैं, तो सजा नहीं मिलनी चाहिए। मेरे कहने का मतलब यह नहीं है कि पांच आरोपियों ने अपराध नहीं किया, लेकिन न्यायिक प्रक्रिया को पारदर्शी और भरोसेमंद होना चाहिए। अगर किसी व्यक्ति को गलत तरीके से सजा दी जाती है तो उसे बलि का बकरा बनाए जाने जैसा है।’

ये भी पढ़े…

गलती इंसानों से होती है, कोई जज यह दावा नहीं कर सकता कि उसने कभी गलत फैसला नहीं सुनाया : सुप्रीम कोर्ट

त्रिपुरा के मंदिरों में पशु-पक्षियों की बलि पर हाई कोर्ट की रोक, कहा- यह धर्म का अभिन्न हिस्सा नहीं

सोशल मीडिया के दुरुपयोग पर सुप्रीम कोर्ट सख्त, कहा- खतरनाक मोड़ पर सोशल मीडिया, सरकार को देना ही चाहिए दखल

Related posts