नया ट्रेंड: कहीं नहीं जाने के लिए भी लोग हवाई सफर के लिए खरीद रहे हैं हजारों-लाखों रुपए के टिकट

चैतन्य भारत न्यूज

कोरोना वायरस महामारी के दौरान संक्रमण न फैले इसलिए सभी चीजों को बंद कर दिया गया था। ऐसे में हवाई सफर पर भी रोक लगा दी गई थी। कुछ देशों में तो अब हवाई सफर पर से रोक हटा दी गई है लेकिन कई देशों में अब भी इस पर पाबंदियां लगी हुई हैं। लोग हवाई सफर मिस कर रहे हैं। ऐसे में कुछ एयरलाइंस ने कुछ ऐसी अनोखी फ्लाइट्स की शुरुआत की है जिसमें यात्री सफर तो करते हैं, लेकिन वो पहुंचते कहीं नहीं हैं।

जी हां… एयरलाइंस यात्रियों को प्लेन में बिठाती तो जरूर हैं और फिर वो कुछ घंटे हवा में सफर करवाने के बाद यात्रियों को उसी एयरपोर्ट पर लाकर छोड़ देती हैं जहां से उन्होंने सफर की शुरुआत की थी। ऐसी फ्लाइट्स में बैठने के लिए लोग हजारों-लाखों रुपए खर्च भी कर रहे हैं। शनिवार को Tigerair Taiwan एयरलाइंस ने ऐसी ही एक फ्लाइट्स में 120 लोगों को यात्रा के अनुभव कराए। इस दौरान विमान ने करीब 2100 किमी की दूरी तय की।

जानकारी के मुताबिक, विमान ताइवान से उड़ान भरकर साउथ कोरिया के हॉलिडे आइलैंड जेजू के पास पहुंचा और फिर वापस ताइवान में लैंड किया। ऐसी फ्लाइट्स प्रमुख दर्शनीय स्थलों के पास कम ऊंचाई पर भी उड़ती हैं ताकि लोग नजारे देख सकें। इस यात्रा के लिए सबसे पहले यात्री की कोरोना जांच की जाती है।

एशिया पैसिफिक एयरलाइंस के मुताबिक, क्षेत्र में महामारी के दौरान हवाई सफर में 97।5 फीसदी की कमी आ गई थी। वहीं, ऐसी फ्लाइट के जरिए एयरलाइंस को भी कुछ आमदनी हो रही है और कुछ पायलटों को लाइलेंस जारी रखने में भी मदद मिलती है। बता दें ताइवान के अलावा ऑस्ट्रेलिया की Qantas और जापान की All Nipon Aiways भी ऐसी फ्लाइट्स शुरू कर रही हैं। Qantas ने बताया कि इसी हफ्ते 7 घंटे की उसकी Flight to nowhere के टिकट 10 मिनट में ही बिक गए।
Qantas एयरलाइंस बड़ी खिड़कियों वाले विमान बोइंग 787 ड्रिमलाइनर में लोगों को यात्रा का अनुभव देगी। फ्लाइट 10 अक्टूबर को सिडनी से उड़ान भरेगी और ऑस्ट्रेलिया के ही कई शहरों के ऊपर से गुजरते हुए वापस सिडनी पहुंचेगी। इस फ्लाइट में बिजनेस, प्रीमियम और इकोनॉमी क्लास की 134 सीट हैं जिनके टिकट के दाम 42 हजार रुपए से लेकर 2 लाख रुपए तक थे।

Related posts