समंदर ही खाता जा रहा है टाइटैनिक के मलबे को, देखें लेटेस्ट वीडियो

titanic ship

चैतन्य भारत न्यूज

टाइटैनिक जहाज हादसे की पूरी कहानी फिल्म ‘टाइटैनिक’ के जरिए दुनिया के सामने आई थी। इस जहाज के बारे में कहा जाता था कि यह कभी डूब नहीं सकता है लेकिन साल 1912 में जब टाइटैनिक अपने सफर पर निकला तो इस दौरान वो 15 अप्रैल को अटलांटिक महासागर में बर्फ के एक पहाड़ से टकरा गया। फिर देखते ही देखते, कुछ ही घंटों के भीतर टाइटैनिक जहाज डूब गया।


टाइटैनिक जहाज का मलबा 34 साल पहले खोजा गया था। भारी-भरकम मशीनों की मदद से गोताखोर समंदर के अंदर गए और उन्होंने मलबा ढूंढ निकाला। फिर बीच में कुछ समय के लिए मलबे की खोज बंद हो गई थी। अब 14 साल बाद एक बार फिर टाइटैनिक का मलबा खोजा गया। इसे ट्राइटन नाम की एक पनडुब्बी ने खोजा है। इन 14 सालों में समंदर मलबे को खा गया। दरअसल, कुछ सालों पहले तक जहाज के जो हिस्से ठीक थे अब वह नमक लगकर गलने लगे हैं। ऐसे में कहा जा रहा है कि समंदर ही टाइटैनिक के मलबे को डकार रहा है। यानी कि मलबा धीरे-धीरे खत्म होता जा रहा है।


जानकारी के मुताबिक, एक प्राइवेट इंवेस्टर ने ट्राइटन पनडुब्बी बनाई। फिर यह महासागर में करीब 12000 फीट नीचे जाकर टाइटैनिक की हाल ही की तस्वीरें और वीडियोस लेकर आई है। तस्वीरें देखने के बाद कहा गया कि 14 साल पहले जहाज के मलबे का अधिकतर हिस्सा सही-सलामत था लेकिन अब समंदर इसे हजम करता जा रहा है। पनडुब्बी को लीड कर रहे विक्टर ने बताया कि, ‘टाइटैनिक के मलबे के पर कई तरह के जीव और अलग-अलग किस्म की मछलियां भी मिली।’

बता दें टाइटैनिक को डूबने से बचाने की काफी कोशिशें की गई थी, लेकिन जहाज बीच से दो हिस्सों में टूट गया था। ऐसे में जहाज के दोनों हिस्से धीरे-धीरे समंदर में समा गए। इस हादसे में 1500 से ज्यादा लोग मारे गए थे।

Related posts