Blue Moon 2020 : आज रात दुनिया को होगा ‘ब्लू मून’ का दीदार, जानें क्‍यों है यह इतना खास और इसका धार्मिक-वैज्ञानिक महत्व

चैतन्य भारत न्यूज

नई दिल्ली. आज आसमान में एक दुर्लभ ‘ब्लू मून’ का नजारा दिखाई देगा। खगोल वैज्ञानिकों का कहना है कि 31 अक्टूबर की रात कोई भी टेलीस्कोप की मदद से ब्लू मून को देख सकता है। खगोल विज्ञानी अध्ययन के लिए इस घटना को लेकर उत्सुक हैं।

क्या नीले रंग का दिखता है चांद?

ब्लू मून का दीदार आज रात 8:19 बजे के करीब हो सकेगा। ‘ब्लू मून’ की खगोलीय घटना बेहद दुर्लभ होती है। भले ही इस घटना को ‘ब्लू मून’ नाम दिया गया हो लेकिन ऐसा नहीं है कि चांद दुनिया में हर जगह नीले रंग का दिखने लगता है। असल में जब वातावरण में प्राकृतिक वजहों से कणों का बिखराव हो जाता है तब कुछ जगहों पर दुर्लभ नजारे के तौर पर चंद्रमा नीला प्रतीत होता है।’

क्या होता है ब्लू मून

आम तौर पर हर महीने में एक बार पूर्णिमा और एक बार अमावस्या होती है। हालांकि, ऐसा दुर्लभ ही होता है कि एक ही महीने में दो बार पूर्णिमा (पूर्ण चंद्र) होती है और ऐसे में दूसरे पूर्ण चंद्र को ‘ब्लू मून’ कहा जाता है। मुंबई के नेहरू तारामंडल के निदेशक अरविंद प्रांजपेय ने कहा कि एक अक्टूबर को पूर्णिमा थी और अब दूसरी पूर्णिमा 31 अक्टूबर को है। इसमें कुछ गणितीय गणना भी शामिल है।

इसके बाद अगला ‘ब्लू मून’ कब होगा

दिल्ली के नेहरू तारामंडल की निदेशक एन रत्नाश्री का कहना है कि ’30 दिन के महीने के दौरान ब्लू मून होना कोई आम बात नहीं है। 30 दिन वाले महीने में पिछली बार 30 जून, 2007 को ‘ब्लू मून’ रहा था और अगली बार यह 30 सितंबर 2050 को होगा। साल 2018 में दो बार ऐसा अवसर आया जब ‘ब्लू मून’ की घटना हुई। उस दौरान पहला ‘ब्लू मून’ 31 जनवरी जबकि दूसरा 31 मार्च को हुआ। अब इसके बाद अगला ‘ब्लू मून’ 31 अगस्त 2023 को होगा।

Related posts