रेलवे यात्रियों को बड़ी राहत, अब 6 माह तक रद्द करा सकेंगे ट्रेन का टिकट

railway recruitment,railway recruitment 2020

चैतन्य भारत न्यूज

नई दिल्ली. कोरोना वायरस और लॉकडाउन के मुश्किल हालात में रेलवे ने यात्रियों को बड़ी राहत दी है। अब से यात्री 6 माह तक के ट्रेन के टिकट रद्द करा सकते हैं।

यह सुविधा उन्हीं यात्रियों को मिलेगी जिन्होंने लॉकडाउन से पहले टिकट बुक कराया है और ट्रेन रद्द हो गई हो। या फिर वह यात्रा नहीं कर सके हो। खास बात यह है कि काउंटर से लिया गया टिकट भी ऑनलाइन रद्द कराया जा सकता है। लेकिन इसका रिफंड सिर्फ काउंटर से ही मिलेगा। बता दें अब तक यात्रियों को यात्रा की तारीख से तीन दिनों के अंदर टिकट रद्द कराना होता था। लेकिन लॉकडाउन के कारण यह अवधि बढ़ाकर तीन माह कर दी गई थी।

गौरतलब है कि कोरोना संकट के चलते मेल और एक्सप्रेस समेत अन्य ट्रेनों को 22 मार्च से बंद कर दिया था, जबकि रेल आरक्षण 14 अप्रैल तक जारी रहा था। 22 मार्च से पहले लाखों लोगों ने ऑनलाइन और काउंटर टिकट लिए थे। ऐसे में ट्रेनें बंद होने से काउंटर से टिकट लेने वालों के सामने बड़ी समस्या खड़ी हो गई थी।

बता दें काउंटर से लिए टिकट के लिए छह माह के अंदर काउंटर पर जाकर टीडीआर (टिकट डिपॉजिट रिसिप्ट) भरना होगा, जो छह माह तक के लिए वैध होगा। इसके बाद चीफ क्लेम ऑफिसर या चीफ कामर्शियल मैनेजर के कार्यालय में जाकर रिफंड लेना होगा। यदि ट्रेन रद्द नहीं हुई है और यात्रा नहीं की है तो काउंटर से टिकट लेने वालों को छह माह के अंदर टीडीआर भरना होगा। इसके अलावा 139 या फिर भारतीय रेलवे खानपान एवं पर्यटन निगम (IRCTC) की वेबसाइट पर जाकर भी काउंटर टिकट रद्द करा सकेंगे।

इसके छह माह के अंदर किसी भी टिकट काउंटर से रिफंड लिया जा सकेगा। यात्रियों का पूरा किराया वापस होगा और टिकट रद्द कराने का शुल्क नहीं काटा जाएगा। इतना ही नहीं बल्कि यदि लॉकडाउन के बाद टिकट रद्द कराने पर किसी से शुल्क काटा गया है तो वह भी चीफ क्लेम ऑफिसर या चीफ कामर्शियल मैनेजर के पास आवेदन कर वापस लिया सकता है।

Related posts