उद्धव ठाकरे ने 26/11 आतंकी हमले से की JNU हिंसा की तुलना, कही यह बात

uddhav thackeray

चैतन्य भारत न्यूज

नई दिल्ली. महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने दिल्ली स्थित जवाहरलाल नेहरू विश्वविद्यालय (JNU) में रविवार रात हुई हिंसा को लेकर बड़ा बयान दिया है। ठाकरे ने जेएनयू हिंसा की तुलना मुंबई में हुए 26/11 के आतंकी हमले से कर दी है।



सोमवार को उद्धव ठाकरे ने कहा कि, ‘जवाहरलाल नेहरू विश्वविद्यालय (जेएनयू) में रविवार को हुई घटना मुंबई में हुए 26/11 के आतंकी हमले जैसी है। महाराष्ट्र सीएम ने कहा कि जिसने भी ये हमला किया है उनके चेहरे से नकाब उतरना चाहिए।’ उन्होंने कहा कि, ‘हमलावरों को मास्क पहनने की क्या जरूरत थी? वे कायर थे। मैं टीवी पर सब कुछ देख रहा था और इसने मुझे 26/11 के मुंबई आतंकवादी हमले की याद दिला दी। उन्होंने कहा मैं महाराष्ट्र में इस तरह के हमलों को बर्दाश्त नहीं करूंगा।’

कपिल सिब्बल का ट्वीट

बता दें जेएनयू मामले को लेकर कई नेताओं के अलग-अलग रिएक्शन आ रहे हैं। विपक्षी पार्टियां इस मामले को सरकार पर निशाना साध रही हैं। कांग्रेस नेता कपिल सिब्बल ने ट्वीट कर कहा कि, ‘नकाबपोश लोग एक विश्व विद्यालय के विचार को नष्ट कर रहे हैं। चौकीदार शांत खड़ा देख रहा है।’

सोनिया ने पीएम पर साधा निशाना

वहीं कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी ने जेएनयू में हुई हिंसा की निंदा करते हुए सोमवार को नरेंद्र मोदी सरकार पर तीखा हमला बोला और कहा कि, ‘ ऐसे करने वाले गुंडों को सत्तारूढ़ मोदी सरकार की ओर से उकसाया गया है। यह हिंसा निंदनीय और अस्वीकार्य है। इस पूरे मामले की स्वतंत्र न्यायिक जांच होनी चाहिए।’

यह है मामला

बता दें जेएनयू में रविवार रात बड़ी संख्या में कुछ नकाबपोश लोगों ने हाथों में डंडे लेकर कैंपस में प्रवेश किया था। इन नकाबपोशों ने साबरमती हॉस्टल समेत जेेएनयू की कई बिल्डिंग में जमकर तोड़फोड़ की। इन्होंने लोहे की रॉड से छात्रों और शिक्षकों की पिटाई की, जिसके बाद 23 लोगों को एम्स अस्पताल में भर्ती कराया गया था, जिन्हें सोमवार सुबह डिस्चार्ज कर कर दिया गया है।

ये भी पढ़े…

JNU में कैसे भड़की हिंसा की आग? प्रशासन ने बताया किस तरह नकाबपोशों ने कैंपस में घुसकर किया हमला

JNU में आपस में भिड़े दो छात्र समूह, छात्र संघ अध्यक्ष समेत 18 छात्र AIIMS में भर्ती, मिलने पहुंचीं प्रियंका गांधी

जेएनयू : छात्रों के प्रदर्शन के आगे झुकी सरकार, जानें पहले क्या थी और अब कितनी बढ़ी फीस?

 

Related posts