उद्धव ठाकरे का बड़ा बयान, कहा- महाराष्ट्र में लागू नहीं होगा एनआरसी

uddhav thackeray,

चैतन्य भारत न्यूज

नई दिल्ली. राष्ट्रीय नागरिक रजिस्टर (NRC) और नागरिकता संशोधन अधिनियम (CAA) को लेकर देश में मच रहे घमासान के बीच महाराष्ट्र में मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे का बयान सामने आया है। उद्धव ठाकरे का कहना है कि वह महाराष्ट्र में राष्ट्रीय नागरिक रजिस्टर को लागू नहीं करेंगे।



हाल ही में हुए एक इंटरव्यू में ठाकरे ने कहा, ‘नागरिकता संशोधन अधिनियम (CAA) नागरिकता को छीनने के बारे में नहीं है, यह देने के बारे में है। अगर एनआरसी लागू किया गया, तो हिंदुओं और मुसलमानों दोनों के लिए नागरिकता साबित करना मुश्किल होगा। मैं ऐसा नहीं होने दूंगा।’

उद्धव ठाकरे का यह बयान ऐसे समय पर सामने आया है जब सीएए और एनआरसी को लेकर दिल्ली के शाहीन बाग सहित देश के कई हिस्सों में विरोध प्रदर्शन देखने को मिल रहा है। प्रदर्शनकारियों का कहना है कि सीएए मुसलमानों और संविधान के खिलाफ है। इसके अलावा यह धर्म के आधार पर भेदभाव करता है।

जबकि नागरिकता संशोधन अधिनियम को लेकर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का कहना है कि, नागरिकता संशोधन अधिनियम को पाकिस्तान, अफगानिस्तान और बांग्लादेश में उत्पीड़न के शिकार अल्पसंख्यकों यानी हिंदू, सिख, ईसाई, जैन, बौद्ध और पारसी समुदाय के लोगों को नागरिकता देने के लिए लाया गया है। इसका हिंदुस्तान के मुसलमानों से कोई लेना देना नहीं हैं।

मोदी सरकार का यह भी कहना है कि अभी तक एनआरसी को लेकर कोई योजना नहीं बनाई गई है। उन्होंने कहा कि वह सीएए और एनआरसी को लेकर प्रदर्शन कर रहे लोगों से बातचीत करने को भी तैयार है।

ये भी पढ़े…

नागरिकता संशोधन कानून पर बोले रजनीकांत, ट्वीटर पर लोगों ने जमकर किया ट्रोल

नागरिकता संशोधन एक्ट : असम में पुलिस फायरिंग के दौरान चार लोगों की मौत, 190 लोग गिरफ्तार

नागरिकता संशोधन बिल लोकसभा में पास, पीएम मोदी ने शाह को कहा धन्यवाद

Related posts