विधायकों की बैठक में उद्धव का बीजेपी को दो टूक जवाब- मुख्यमंत्री पद देने के लिए राजी हैं तो फोन करें, अन्यथा कोई जरुरत नहीं

uddhav thackeray

चैतन्य भारत न्यूज

मुंबई. महाराष्ट्र विधानसभा चुनावों के नतीजे आए करीब 14 दिन हो गए हैं लेकिन राज्य में अब तक सरकार बनने के आसार नजर नहीं आ रहे हैं। नतीजे आने के बाद से ही मुख्यमंत्री की कुर्सी को लेकर बीजेपी और शिवसेना में खींचतान जारी है। गुरुवार को उद्धव ठाकरे की अध्यक्षता में शिवसेना विधायकों की मुंबई में एक बैठक हुई जिसमें उद्धव ने कहा कि, ‘मैं ये गठबंधन तोड़ना नहीं चाहता, लेकिन मैं चाहता हूं कि बीजेपी अपना वादा निभाए जो उसने लोकसभा चुनाव से पहले शिवसेना से किया था।’


उद्धव का बीजेपी को दो टूक जवाब

उद्धव ने कहा कि, ‘मैं हमेशा बीजेपी के बड़े नेताओं के साथ बातचीत करने के लिए तैयार हूं, लेकिन उन्हें पहले लोकसभा चुनावों से पहले किए गए वादे को निभाना होगा। बीजेपी नेता 2.5 साल शिवसेना का सीएम बनाने के लिए तैयार हो जाएं और कभी भी मुझे फोन कर लें, अन्यथा मुझे फोन न करें।’ उन्होंने यह भी कहा कि, ‘हम बीजेपी को सबक नहीं सिखाना चाहते लेकिन ये हमारे आत्मसम्मान का मामला है। अगर बीजेपी अपना किया हुआ वादा नहीं निभा सकती तो आगे बातचीत का कोई मतलब ही नहीं रह जाता।’

राज्य का मुख्यमंत्री शिवसेना का ही होगा

बैठक के दौरान उद्धव ने यह दावा किया है कि, ‘लोकसभा चुनावों के दौरान बीजेपी ने वादा किया था कि शिवसेना को बराबर के साथी का दर्जा दिया जाएगा जिसके तहत 2.5 साल के लिए सीएम का पद भी शिवसेना के पास रहेगा।’ वहीं शिवसेना नेता संजय राउत का कहना है कि, उनके पास अपना मुख्यमंत्री बनाने के लिए बहुमत है। उन्होंने कहा कि, ‘हमें यह दिखाने की जरूरत नहीं है। हम विधानसभा में बहुमत साबित करेंगे। हमारे पास कोई विकल्प नहीं है। बिना विकल्प के हम नहीं बोलते हैं। राज्य का मुख्यमंत्री शिवसेना का ही होगा।’

ये भी पढ़े…

महाराष्ट्र में नया ट्विस्ट, कांग्रेस सांसद ने चिट्ठी लिखकर सोनिया से कही शिवसेना को समर्थन देने की बात

फडणवीस का शिवसेना को करारा जवाब- राज्य में कोई 50-50 नहीं, पूरे पांच साल मैं ही रहूंगा मुख्यमंत्री

महाराष्ट्र चुनाव परिणाम : नतीजे आने से पहले शिवसेना ने बीजेपी को दिखाई ताकत, आदित्य के लिए मांगा मुख्यमंत्री पद!

Related posts