सावन: प्राचीन वैभव के साथ निकलेगी बाबा महाकाल की सवारी, श्रद्धालु नहीं हो सकेंगे शामिल, मार्ग भी होगा छोटा

mahakal sawari

चैतन्य भारत न्यूज

उज्जैन. बाबा भोलेनाथ का अति प्रिय सावन का महीना इस बार 6 जुलाई से प्रारंभ हो रहा है। हर बार सावन के महीने में मध्यप्रदेश के उज्जैन में बाबा महाकाल की सवारी निकाली जाती है। बाबा महाकाल अपनी प्रजा का हाल जानने और उन्हें दर्शन देने के लिए फूलों से लदी पालकी में सवार होकर ढोल-नगाड़ों के साथ भ्रमण पर निकलते हैं। लेकिन इस साल संक्रमण का खतरा देखते हुए बाबा महाकाल की सवारी में अत्यधिक सावधानी बरती जाएगी।

श्रद्धालु नहीं होंगे शामिल

हर साल की तरह इस साल भी सावन माह में प्राचीन वैभव के साथ ही बाबा महाकाल की सवारी निकाली जाएगी। लेकिन इस बार सवारी श्रद्धालु शामिल नहीं हो पाएंगे। साथ ही सवारी का रूट भी संक्षिप्त होगा। पुलिस और प्रशासन के आला अधिकारियों ने सोमवार को महाकाल मंदिर व सवारी मार्ग का निरीक्षण किया। संभागायुक्त आयुक्त आनंद शर्मा, आईजी राकेश गुप्ता, जिलाधिकारी आशीष सिंह, एसपी मनोज कुमार सिंह, मंदिर समिति प्रशासक सुजान सिंह रावत सहित अन्य ने निरीक्षण कर सवारी निकालने को लेकर योजना बनाई।

सवारी का लाइव प्रसारण होगा

अधिकारियों ने निर्णय लिया कि बाबा महाकाल की सवारी तो निकलेगी परंतु रूट कुछ परिवर्तित किया जाएगा। छोटे मार्ग पर इस बार बाबा का भ्रमण होगा। श्रद्धालु बाबा की सवारी के दर्शन कर सकें इसलिए सवारी का सीधा प्रसारण (Live telecast) अलग अलग माध्यमों से किया जाएगा। लोग घर पर ही सवारी देख सकेंगे। सवारी की सुरक्षा को लेकर पुलिस विभाग ड्रोन, कैमरा, सीसीटीवी और बैरिकेडिंग के पुख्ता इंतजाम करेगा।

  1. सवारी तो निकलेगी पर मार्ग होगा छोटा।
  2.  परम्परा का निर्वाह किया जाएगा।
  3. श्रद्धालु शामिल नहीं हो सकेंगे।
  4. श्रद्धालुओं के लिए सवारी का लाइव प्रसारण किया जाएगा।
  5. सीसीटीवी व ड्रोन कैमरों से नजर रखी जाएगी।
  6.  सवारी का वैभव कम नहीं किया जाएगा।

Related posts