चीन का अनिंयत्रित रॉकेट मालदीव्स के पास गिरा

चैतन्य भारत न्यूज

शंघाई. चीन का अनियंत्रित रॉकेट आखिरकार बिना किसी को नुकसान पहुंचाए, हिंद महासागर में मालदीव्स के पास गिर गया। हालांकि अभी तक ये पता नहीं चल सका है कि रॉकेट के गिरने के बाद कितना नुकसान हुआ है।

चीन के ‘मैन्ड स्पेस इंजीनियरिंग’ कार्यालय ने बताया कि चीन के लॉन्ग मार्च 5बी रॉकेट के अवशेष बीजिंग के समयानुसार सुबह 10 बजकर 24 मिनट पर पृथ्वी के वायुमंडल में फिर से प्रवेश कर गए और वे 72।7 डिग्री पूर्वी देशांतर और 2।65 डिग्री उत्तरी अक्षांश में समुद्र के एक खुले क्षेत्र में गिरे।


अमेरिकी रक्षा विभाग पेंटागन (Pentagon) ने कुछ दिन पहले ही चीन के इस लॉन्ग मार्च 5बी रॉकेट के धरती से टकराने की चेतावनी दे दी थी। अमेरिकी स्पेस फोर्स के डेटा के मुताबिक यह रॉकेट 18 हजार मील प्रतिघंटा की रफ्तार से धरती की ओर बढ़ रहा था। इतनी तेज रफ्तार होने के कारण इस बात की पुष्टि नहीं की सकी थी कि इसकी लैंडिंग कहां होगी।

निर्देशांक ने भारत और श्रीलंका के दक्षिण-पश्चिम में समुद्र में प्रभाव के बिंदु को रखा। इसके साथ ही कहा गया कि अधिकांश मलबा वायुमंडल में जल गया था। चीन ने यह रॉकेट 28 अप्रैल को अपने तियानहे स्पेस स्टेशन को बनाने के लिए अपना सबसे बड़ा रॉकेट लॉन्ग मार्च 5बी छोड़ा था। यह एक मॉड्यूल लेकर स्पेस स्टेशन तक गया था। मॉड्यूल को तय कक्षा में छोड़ने के बाद इसे नियंत्रित तरीके से धरती पर लौटना था। लेकिन अब चीन की स्पेस एजेंसी का इस पर से नियंत्रण खत्म हो चुका है।

Related posts